न्यूयार्क, प्रेट्र। पुणे के रहने वाले श्रीधर चिल्लाल ने सबसे लंबे नाखूनों का विश्व रिकॉर्ड तो अपने नाम कर लिया, लेकिन इस चक्कर में उनके हाथ ने काम करना बंद कर दिया है। गिनीज व‌र्ल्ड रिकॉर्डधारी श्रीधर ने 66 वर्षो से अपने बाएं हाथ के नाखूनों को नहीं काटा था। 82 साल की उम्र में गुरुवार को उन्होंने टाइम्स स्क्वायर पर अपने नाखून कटवा लिए। इस मौके पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसके लिए वे विशेष रूप से भारत से न्यूयॉर्क आए थे।

श्रीधर के नाखूनों को अब 'रिप्लेज बिलीव इट और नॉट' म्यूजियम में रखा जाएगा। उनके नाखूनों की कुल लंबाई नौ मीटर से भी ज्यादा है। उनका सबसे लंबा नाखून बाएं हाथ के अंगूठे का है, जिसकी लंबाई 197.8 सेंटीमीटर है। 2016 में गिनीज बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिकॉ‌र्ड्स में 'एक हाथ के सबसे लंबे नाखून' वाले व्यक्ति के रूप में उनका नाम दर्ज हुआ था। उनकी इच्छा थी कि उनके नाखून संग्रहालय में सुरक्षित रखे जाएं।

लंबे समय तक नाखून नहीं कटाने और इसके वजन से श्रीधर का बायां हाथ स्थायी रूप से बेकार हो गया है। वे न तो मुट्ठी बंद कर सकते हैं और न उनकी अंगुलियों में कोई हलचल है।

इस तरह बढ़ाना शुरू किया नाखून

1952 में श्रीधर स्कूल के छात्र थे। एक दिन उनकी गलती से उनके शिक्षक का लंबा नाखून टूट गया। इससे उनके शिक्षक बहुत नाराज हो गए और उनको बहुत डांटा। उन्होंने कहा कि वह कभी नहीं समझ पाएंगे कि उन्होंने क्या कर दिया है, क्योंकि उनमें किसी चीज को लेकर प्रतिबद्धता नहीं है। इसे श्रीधर ने चुनौती की तरह लिया और उसके बाद से बाएं हाखं के नाखूनों को कटवाना बंद कर दिया।

हालांकि, दाएं हाथ के नाखूनों को वह सामान्य लोगों की तरह कटवाते रहे। चिल्लाल अपनी इस असाधारण पसंद के बावजूद सामान्य जिंदगी जीते रहे। उनके परिवार में पत्नी, दो बच्चे और पोते-पोतियां हैं। हालांकि उम्र बढ़ने के साथ लंबे नाखूनों को सहेजकर रखना आसान नहीं रहा। वह रात में सामान्य रूप से सो नहीं पाते थे। यहां तक कि हवा का झोंका भी उनके लिए परेशानी का कारण बन जाता था।

By Bhupendra Singh