लास एंजिलिस [प्रेट्र]। जलवायु परिवर्तन के कारण बच्चों में होने वाले सामान्य वायरल संक्रमण जैसे हाथ, पैर और मुंह की बीमारियां (एचएफएमडी) होने का खतरा बढ़ सकता है। यह चेतावनी एक अध्ययन के बाद दी गई है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ डर्मटोलॉजी में प्रकाशित इस समीक्षा के बारे में बताया गया है कि शोधकर्ताओं ने एचएफएमडी का तापमान व नमी के बीच सकारात्मक संबंध पाया। अमेरिका स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, सैन फ्रांसिस्को के शोधकर्ताओं के मुताबिक, वहीं एचएफएमडी का हवा की गति और सूरज की रोशनी के साथ कोई महत्वपूर्ण संबंध सामने नहीं आया।

यूनिवर्सिटी की सारा कोटेस कहती हैं, हमने जलवायु परिवर्तन का विभिन्न संक्रमण बीमारियों के साथ संबंध का अध्ययन किया। अध्ययन में सामने आया है कि जिस तरह से जलवायु परिवर्तन हो रही है और ग्लोबल वार्मिंग का असर बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे बचपन में होने वाले वायरल संक्रमण का खतरा भी बढ़ रहा है। इस परिवर्तन के कारण संक्रमण फैलाने वाले कारक अधिक सक्रिय हो जाते हैं, जिससे खतरा बढ़ सकता है।

सारा आगे कहती हैं, लोगों और चिकित्सा समुदाय से जुड़े लोगों में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से यह अध्ययन किया गया है। हमें उम्मीद है कि इसके परिणाम उन्हें उचित कदम उठाने के लिए प्रेरित करेंगे। एक तरफ हम जलवायु परिवर्तन के असर को कम करने में अपनी भूमिका निभा सकते हैं, वहीं इससे पैदा होने वाले भावी खतरों के लिए चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोग उचित तैयारियां भी कर सकते हैं। 

Posted By: Sanjay Pokhriyal