वाशिंगटन (एजेंसी)। एपल के पूर्व इंजीनियर पर कंपनी से गोपनीय तकनीक चुराने का आरोप है। अमेरिका के उत्‍तरी कैलिफोर्निया में अमेरिकी डिस्‍ट्रिक्‍ट कोर्ट में जियाओलांग झांग पर यह मामला दर्ज कराया गया। एपल के इस हार्डवेयर इंजीनियर झांग पर आरोप है कि दूसरी कंपनी में नौकरी मिलने के बाद एपल के सीक्रेट्स अपने साथ चोरी कर ले जा रहा था। झांग ने एपल में दि‍संबर 2015 में काम करना शुरू कि‍या था। झांग पर यह भी आरोप है कि उसने इंजीनि‍यरिंग स्‍कीमैटि‍क्‍स और टेक्‍नि‍कल रि‍पोर्ट्स समेत कई फाइल्‍स को डाउनलोड कि‍या था।

बीजिंग के लिए लिया था टिकट
बता दें कि टेक वर्ल्‍ड में जिस तकनीक के एक्‍सेस के लिए लोग केवल सपने में सोचा जा सकता है एपल के उस गोपनीय तकनीक ऑटोनोमस कार रिसर्च तक झांग की पहुंच थी। झांग को सैन जोस इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया गया। उसने बीजिंग के लिए टिकट लिया था। एपल के ऑटोनोमस व्‍हीकल डेवलपमेंट टीम में हार्डवेयर इंजीनियर होने के नाते झांग के पास गोपनीय इंटरनल डाटाबेस की पहुंच थी जि‍समें ट्रेड सीक्रेट्स और इंटीलेक्‍चुअल प्रॉपर्टी मौजूद थे।

सार्वजनिक नहीं किया गया था प्रोजेक्‍ट
एपल ने सेल्‍फ ड्राइविंग टेक्‍नोलॉजी को डेवलप करने में अपनी रुचि‍ के बारे में केवल सामान्‍य टि‍प्‍पणी करने के अलावा रि‍सर्च के बारे में कभी भी खुल पर चर्चा नहीं की थी। कंपनी के ज्‍यादा कर्मचारि‍यों से भी इन जानकारि‍यों से दूर रखा गया था। कर्मचारि‍यों को भी नहीं पता है कि कंपनी असल में क्‍या काम कर रही है।

ऑटोनोमस व्‍हीकल्‍स की चीनी कंपनी
अमेरिकी प्रशासन ने एपल के इस पूर्व इंजीनि‍यर झांग को कंपनी के सेल्‍फ ड्राइविंग प्रोजेक्‍ट के सीक्रेट्स चुराने के आरोप में गि‍रफ्तार कि‍या है। एफबीआई और अमेरिकी अटॉर्नी के दफ्तर द्वारा सेन जोस कोर्ट में दाखि‍ल आपराधि‍क शि‍कायत के अनुसार, गि‍रफ्तार के समय उसने बताया कि‍ वह चीन के स्‍टार्टअप के लि‍ए काम करता था। यह स्‍टार्टअप भी ऑटोनोमस व्‍हीकल्‍स को डेवलप करती है।

हो सकती है दस साल की कैद
शि‍कायत में कहा गया कि‍ प्रोजेक्‍ट पर 1.35 लाख से ज्‍यादा कर्मचारि‍यों का 'खुलासा' कि‍या गया, जि‍समें से केवल 5,000 कमर्चारी प्रोजेक्‍ट की डि‍टेल जानकारी के बारे में जानते हैं। इसमें से भी केवल 2,700 'कोर कर्मचारि‍यों' के पास प्रोजेक्‍ट के डाटाबेस का एक्‍सेस था। अधिकारियों ने कहा कि झांग ने अपनी पत्‍नी के लैपटॉप की जांच की भी अनुमति दे दी। एफबीआइ ने 27 जून को झांग से पूछताछ की जिसमें उसने एपल से फाइल्‍स चोरी की बात स्‍वीकार की। 5 मई को झांग ने अपनी मर्जी से एपल कंपनी से इस्‍तीफा दिया। 27 जुलाई को झांग की चोरी मामले में सुनवाई होनी है। इसमें दोषी पाए जाने पर उसे 250,000 डॉलर जुर्माने के साथ 10 साल की कैद की सजा होगी।

By Monika Minal