वाशिंगटन, आइएएनएस। अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने फेसबुक की प्रस्तावित डिजिटल करेंसी 'लिब्रा' को लेकर गंभीर चिंता जताई। हाउस फाइनेंशियल सर्विसेज कमेटी में वक्तव्य देते समय पॉवेल ने फेसबुक की क्रिप्टोकरेंसी पर गंभीर आपत्ति जताई। फेसबुक ने 2020 में क्रिप्टोकरेंसी लिब्रा को लांच करने की घोषणा की है।

पॉवेल ने हाउस फाइनेंशियल सर्विसेज कमेटी से कहा कि मुझे लगता है कि जब तक मनी लांड्रिंग और अन्य मुद्दों से निपटने को लेकर कंपनी के तरीकों पर व्यापक सहमति नहीं बन जाती, तब तक यह योजना आगे नहीं बढ़ सकती। लिब्रा प्राइवेसी, मनी लांड्रिंग, उपभोक्ता सुरक्षा और वित्तीय स्थिरता को लेकर कई गंभीर सवाल खड़े कर रही है।

फेसबुक ने अपनी सहयोगी इकाई कैलिब्रा के जरिये लिब्रा के लिए एक डिजिटल वॉलेट लांच करने की योजना भी बनाई है। यह वॉलेट मैसेंजर और वॉट्सएप पर उपलब्ध होगा। यह अलग एप के रूप में भी उपलब्ध होगा। वॉलेट के 2020 में लांच होने की उम्मीद है।

कैलिब्रा के प्रमुख डेविड मार्कस ने एक ट्वीट में पॉवेल की चिंता के जवाब में कहा कि मैं इस बात से पूरी तरह सहमत हूं कि लिब्रा से जुड़ी सभी वाजिब चिंता का पूरी सावधानी और धीरज के साथ समाधान किया जाना चाहिए। इसमें कोई जल्दबाजी नहीं होनी चाहिए। इसलिए हमने अपनी योजना की घोषणा पहले कर दी है।

फेसबुक के अधिकारियों को भेजे गए एक नए पत्र में अमेरिका के नीति निर्माताओं ने फेसबुक को औपचारिक तौर पर लिब्रा क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित सभी गतिविधियां रोकने के लिए कहा है। लिब्रा परियोजना की घोषणा के तुरंत बाद नीति निर्माताओं की प्रतिनिधि और हाउस फाइनेंशियल सर्विसेज कमेटी की चेयरपर्सन मैक्सिन वाटर्स ने जून में इस तरह के कदम के संकेत दे दिए थे। उन्होंने कई बार फेसबुक से बात कर लिब्रा योजना को रोकने के लिए कहा था। लेकिन यह पहली बार है, जब उन्होंने औपचारिक पत्र के जरिये ऐसा कहा है।

Posted By: Arun Kumar Singh