सैन फ्रांसिस्को, रायटर। फेसबुक इंक ने मंगलवार को बताया कि उसने दूसरी तिमाही में कोरोना संक्रमण से संबंधित 70 लाख फर्जी पोस्ट हटाए हैं। इनमें कोरोना संक्रमण से बचने के लिए साझा किए गए अविश्वसनीय उपायों से संबंधित पोस्ट भी शामिल हैं।

फेसबुक ने छठी कम्युनिटी स्टैंडर्ड इन्फोर्समेंट रिपोर्ट के तहत आंकड़े जारी किए हैं। रिपोर्ट की शुरुआत वर्ष 2018 में की गई थी। कंपनी ने कहा कि वह अगले साल से रिपोर्ट में शामिल आंकड़ों के ऑडिट के लिए बाहरी विशेषज्ञों को भी आमंत्रित करेगी।

सोशल मीडिया कंपनी ने दूसरी तिमाही में अपने एप से नफरत फैलाने वाले 2.25 करोड़ भाषणों को हटाया है। इस दौरान कंपनी ने चरमपंथी संगठनों की 87 लाख पोस्ट को हटाया गया है, जबकि पिछली तिमाही में 63 लाख पोस्ट हटाई गई थीं। कंपनी ने कहा कि अप्रैल से जून तक दूसरी तिमाही के दौरान उसने पोस्ट की समीक्षा के लिए तकनीक का ज्यादा सहारा लिया।

इससे पहले फेसबुक ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भी पोस्ट को हटा दिया था, उसके बाद काफी आलोचना हुई थी। दरअसल फेसबुक पर काफी संख्या में भ्रामक चीजें पोस्ट की जा रही हैं जिसको लेकर नियम सख्त किए गए हैं।

कोर्ट ने भी इन चीजों का संज्ञान लेते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मालिकों को सख्ती बरतने के लिए कहा था जिसके बाद अब इस तरह की पोस्टों को प्राथमिकता के तहत हटाने पर काम किया जा रहा है। सबसे अधिक भ्रामक खबरें सोशल मीडिया साइटों पर ही फैलाई जा रही हैं, इनमें फेसबुक, टवीटर, इंस्टाग्राम जैसी साइटें शामिल हैं। 

कोरोना काल के दौरान भी लाखों की संख्या में ऐसी सूचनाएं फेसबुक पर पोस्ट की गई थी। कई पोस्टों में कोरोना वैक्सीन जल्द मिल जाने की बात कही गई थी। इसी तरह से कई पोस्टों में कोरोना को लेकर कई तरह की अफवाहें भी फैलाई गई थीं। दुनिया भर के देशों में कोरोना का कहर बरपा था। करोड़ों लोग इससे प्रभावित हैं और लाखों लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस