वॉशिंगटन, पीटीआई।  उद्यमी रीक मेहता अमेरिकी राज्य न्यू जर्सी से सीनेट सीट के लिए रिपब्लिकन प्राथमिक जीतने वाले पहले भारतीय-अमेरिकी बन गए हैं। वह नवंबर के चुनावों में डेमोक्रेटिक अवलंबी सीनेटर कोरी बुकर का सामना करेंगे।

अमेरिका के पूर्व खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के एक अधिकारी, मेहता ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी हीर सिंह को हराया, साथ ही एक भारतीय-अमेरिकी, रिपब्लिकन में GOP (ग्रैंड ओल्ड पार्टी) के रूप में भी जाना जाता है।  नवंबर में होने वाले चुनावों में उनका मुकाबला डेमोक्रेटिक पार्टी के मौजूदा सांसद कोरी बुकर से होगा।

प्रारंभिक नतीजों के अनुसार अमेरिका के पूर्व खाद्य एवं औषधि प्रशासन अधिकारी मेहता ने सात जुलाई को हुए प्राइमरी चुनाव में रिपबल्किन पार्टी में अपने प्रतिद्वंद्वी भारतीय-अमेरिकी हर्ष सिंह को करीब 13,743 मतों से हराया है। जानकारी के लिए बता दें कि ऐसा पहली बार हुआ है कि जब न्यूजर्सी से सीनेट के लिए दोनों पार्टियों के उम्मीदवार अश्वेत होंगे। वहींं दूसरी तरफ डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उम्मीदवार बुकर अफ्रीकी-अमेरिकी हैं। 

यह पहली बार होगा कि न्यूजर्सी से सीनेट का प्रतिनिधि बनने की दौड़ में दोनों दलों ने अश्वेत उम्मीदवार उतारे हैं। अभी इस सीट पर काबिज डेमोक्रेट सीनेटर कोरी ब्रूकर अफ्रीकी मूल के अमेरिकी हैं और वह प्राइमरी चुनाव में 89 फीसद वोट हासिल करने में कामयाब रहे हैं। वैसे तो न्यूजर्सी एक अकेला प्रांत हैं, जहां पर भारतीय मूल के अमेरिकियों की सबसे अधिक तादाद है, लेकिन पिछले 48 वर्षो से यहां रिपब्लिकन पार्टी का एक भी सीनेटर नहीं जीता है। प्रांत से सीनेट के लिए चुने जाने वाले दोनों सदस्य डेमोक्रेटिक पार्टी का प्रतिनिधित्व करते हैं। मेहता ने रुटगर्स यूनिवसटी से फार्मेसी में बीएस और अरकांसस यूनिवर्सिटी से मेडिकल साइंसेज में फार्म डी किया है।

गौरतलब है कि न्यूजर्सी भारतीय-अमेरिकी मूल के नागरिकों की सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्यों में से एक हैं। ऐसा माना जाता है कि ये  डेमोक्रेटिक पार्टी का गढ़ है। राज्य की दोनों सीटों पर डेमोक्रेटिक पार्टी का कब्जा है। एक सीट से रॉबर्ट मेनेंडेज तो दूसरी सीट से बुकर सांसद हैं। दोनों ही डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता हैं।

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस