वाशिंगटन, एएनआइ। व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शन के मद्देनजर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को सुरक्षित बंकर में ले जाया गया। न्यूयार्क टाइम्स के अनुसार, शुक्रवार को प्रदर्शनकारियों की भीड़ जमा हो गई। उग्र प्रदर्शन के बाद ट्रंप वहां एक घंटे से भी कम समय रहे। हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं की गई है कि उनके साथ पत्नी मेलानिया ट्रंप और बेटे बैरोन ट्रंप वहां मौजूद थे या नहीं। 

अमेरिका के 30 शहर इस प्रदर्शन की हिंसा के चपेट में हैं। इसके कारण वाशिंगटन में हालात बिगड़ गए और मेयर ने रात 11 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू का ऐलान कर दिया। बता दें कि व्हाइट हाउस के पास लगातार तीसरे दिन भी विरोध प्रदर्शन का सिलसिला जारी रहा।

उल्लेखनीय है कि पुलिस हिरासत में अफ्रीकी-अमेरिकी नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड (George Floyd)  की मौत के बाद से ही अमेरिका में अश्वेतों का प्रदर्शन हिंसक होता जा रहा है। अमेरिका के 30 शहर हिंसा के चपेट में आ गया है। व्हाइट हाउस के पास मामले को बिगड़ता हुआ देख सीक्रेट सर्विस एजेंट्स राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को व्हाइट हाउस में बने सुरक्षात्मक बंकर में लेकर चले गए। वहीं, वाशिंगटन में रात को कर्फ्यू का ऐलान करना पड़ा। राजधानी में पुलिस की सहायता के लिए मेयर ने नेशनल गार्ड्स के तैनाती की मंजूरी दे दी है।

उग्र प्रदर्शनकारियों ने व्हाइट हाउस के करीब एक कूड़ेदान में आग लगा दी। इतना ही नहीं हालात पर नियंत्रण कर रही पुलिस के साथ धक्कामुक्की भी की। हालात को बिगड़ता देख वहां सुरक्षा के लिए तैनात सीक्रेट सर्विस एजेंट्स राष्ट्रपति ट्रंप को व्हाइट हाउस में निर्मित बंकर में लेकर चले गए।यूएस डेली के अनुसार, शुक्रवार रात को हुए उग्र प्रदर्शन ने ट्रंप की टीम को हैरत में डाल दिया। वाशिंगटन समेत 15 राज्यों में नेशनल गार्ड सदस्य सक्रिय हैं इसके अलावा 2,000 अन्य गार्ड को भी तैयार रखा गया है और ये जरूरत पड़ने पर काम शुरू कर देंगे।

 

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस