वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि चीन अब कोरोना वायरस से संबंधित अपना डेटा अमेरिका के साथ साझा करेगा। ट्रंप की मानें तो इस डाटा का इस्‍तेमाल अमेरिका के लिए महामारी से निपटने में मददगार साबित होगा। महामारी से निपटने में चीन के अनुभव अमेरिका के लिए कारगर साबित हो सकते हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति के उनके समकक्ष शी चिनफिंग के साथ शुक्रवार को एक घंटे तक बातचीत हुई जिसके बाद उन्‍होंने यह जानकारी साझा की है।

उल्‍लेखनीय है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति इससे पहले कोरोना वायरस को 'चीनी वायरस' कह दिया था। यही नहीं अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने भी चीन की सरकार पर अमेरिकी लोगों के स्वास्थ्य को खतरे में डालने का आरोप लगाया था। इससे चीन नाराज भी हो गया था लेकिन अब ट्रंप की फोन पर शी चिनफ‍िंग से बात करने के बाद दोनों देशों के बीच सबकुछ सामान्‍य होता मालूम पड़ रहा है।

मालूम हो कि दुनिया में कोरोना वायरस के सबसे ज्‍यादा 100,717 केस सामने आए हैं जबकि 1,544 लोगों की मौत हो गई है। महामारी के अगले केंद्र के तौर पर अमेरिका को उभरता देश चीन के राष्‍ट्रपति ने ट्रंप को कोरोना से लड़ने में अपनी ओर से पूरी मदद का भरोसा दिया है। साथ ही यह भी कहा है कि संक्रामक रोग के लिए कोई सरहद मायने नहीं रखती है। ट्रंप ने बताया कि चीन ने इस महामारी से लड़ने के कारगर उपाय तलाशे हैं।

राष्‍ट्रपति ट्रंप की मानें तो चीन कोरोना को लेकर जानकारियां अमेरिका को भेज रहा है। काफी सारी जानकारियां पहले ही अमेरिका भेजी जा चुकी हैं। बता दें कि चीन के वुहान से शुरू हुई कोरोना वायरस की महामारी से पूरी दुनिया त्रस्‍त नजर आ रही है। हालांकि चीन में अब हालात सुधरते नजर आ रहे हैं। चीन में संक्रमित मामलों की संख्या 81,394 पर पहुंच गई है जबकि 3,295 लोग इस संक्रमण से जान गवां चुके हैं। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस