वॉशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और चीन को लेकर कहा कि ये दोनों देश अब विकसीत देश नहीं रहे हैं। साथ ही ये भी कहा कि वह WTO की तरफ से उन्हें मिले फायदा उठा रहे हैं। ट्रंप ने अपनी अमेरिका फर्स्ट नीति के तहत वह भारत के एक मुखर आलोचक रहे हैं। 

अमेरिका और चीन फिलहाल व्यापार युद्ध में लगे हुए हैं। जब से ट्रंप ने चीनी समानों पर दंडात्मक शुल्क लगा दिया है। इससे पहले जुलाई में, ट्रंप ने विश्व व्यापार संगठन को यह परिभाषित करने के लिए कहा था कि यह विकासशील-देश की स्थिति को कैसे निर्धारित करता है, दरअसल ट्रंप ने ऐसा चीन, भारत और तुर्की जैसे देशों को ग्लोबल ट्रेड से बाहर करने के लिए ऐसा किया था। 

एक ज्ञापन में ट्रंप ने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि (USTR) को ऐसे देशों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई शुरू करने का अधिकार दिया था, जो WTO के लाभों का अनुचित लाभ उठा रहे हैं। मंगलवार को पेंसिल्वेनिया में एक सभा को संबोधित करते हुए, ट्रंप ने कहा कि भारत और चीन  एशिया के दो आर्थिक दिग्गज - अब विकासशील राष्ट्र नहीं हैं और अब वे डब्ल्यूटीओ से लाभ नहीं ले सकते हैं।

ट्रंप ने आगे कहा कि ये देश डब्ल्यूटीओ से विकासशील राष्ट्र टैग का लाभ उठा रहे हैं, जिससे अमेरिका को नुकसान हो रहा है। ट्रम्प ने कहा, "वे (भारत और चीन) साल-दर-साल हमारा फायदा उठा रहे हैं। बता दें कि जिनेवा-आधारित विश्व व्यापार संगठन एक अंतर-सरकारी संगठन है जो राष्ट्रों के बीच अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को नियंत्रित करता है।

ट्रंप ने कहा कि हमें आशा है कि WTO अमेरिका के साथ न्याय करेगा। उन्होंने कहा कि WTO पहले इन दोनों देशों को विकासशील मानता था लेकिन, ये दोनों ही देश विकसीत हो चुके हैं। साथ ही चेतावनी दी की अमेरिका ऐसे देशों को WTO से फायदा नहीं लेने देंगे। 

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ayushi Tyagi