वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एच-1बी वीजा धारकों को आश्वस्त करते हुए कहा है कि उनका प्रशासन जल्द ही इसमें बदलाव लाएगा। इस नए परिवर्तन से जहां उन्हें यहां रहने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी वहीं उनकी नागरिकता का संभावित मार्ग भी खुलेगा। ट्रंप ने शुक्रवार को किए ट्वीट में कहा कि उनका प्रशासन एच-1बी वीजा नीतियों में अमूलचूल परिवर्तन की योजना बना रहा है। इसमें अमेरिका में करियर विकल्प चुनने को प्रतिभाशाली और अत्यधिक कुशल लोगों को प्रोत्साहन मिलेगा।

ट्रंप ने ट्वीट में लिखा, 'अमेरिका में रहने वाले एच-1बी वीजा धारकों को मैं आश्वस्त करता हूं कि इस संबंध में जल्द ही बदलाव सामने आएंगे। जो आपके यहां रहने को सरल बनाने के साथ ही निश्चितता भी प्रदान करेंगे। नई नीति में आपकी अमेरिकी नागरिकता का संभावित मार्ग भी शामिल है। हम अमेरिका में करियर विकल्पों को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिभाशाली और उच्च कुशल लोगों को प्रोत्साहित करना चाहते हैं।'

भारतीय पेशेवरों के लिए खुशखबरी
बता दें कि ट्रंप का यह ट्वीट सूचना प्रौद्योगिकी सहित अन्य सभी भारतीय पेशेवरों के लिए खुशखबरी है, जो दशकों से ग्रीन कार्ड या स्थायी कानून नागरिकता के इंतजार में हैं। खास बात यह है कि अपने राष्ट्रपति शासन काल के पहले दो सालों में उन्होंने एच-1 बी वीजा धारकों के लिए तय समय से अधिक समय तक रुकने, उसे विस्तार देने और उन्हें नए वीजा जारी करने के नियमों को कड़ा कर दिया था।

क्या है एच-1बी वीजा
एच-1बी वीजा एक गैर अप्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विशेष व्यवसायों में तकनीकी तौर पर दक्ष विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देता है। सबसे अधिक इसी वीजा पर लाखों भारतीय आइटी पेशेवर अमेरिका में काम कर रहे हैं।

Posted By: Manish Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप