वाशिंगटन, आइएएनएस। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के मुख्य सलाहकार डा. एंथनी फासी (Doctor Anthony Fauci) ने कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट (Delta Variant) को लेकर लोगों को सावधान किया है। उनका कहना है कि लोगों को खास ख्याल रखने की जरूरत है और बिल्कुल लापरवाही ना बरतें क्योंकि यह वैरिएंट बहुत ही संक्रामक है। ब्रिटेन में इस समय यह वैरिएंट तेजी से फैल रहा है। डेल्टा वैरिएंट यानी बी.1.617.2 सबसे पहले भारत में पिछले साल अक्टूबर में पाया गया था।

ब्रिटेन में तेजी से फैल रहा यह वैरिएंट सबसे ज्यादा 12 से 20 साल के युवाओं को चपेट में ले रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, अब तक यह वैरिएंट दुनिया के 62 देशों में फैल चुका है। डा. फासी ने कहा कि देश में मिले कोरोना के मामलों में से छह फीसद से ज्यादा केस डेल्टा वैरिएंट के मिले हैं। ब्रिटेन में इस वैरिएंट के 60 फीसद नए मामले मिले हैं। डा. फासी ने नए स्ट्रेन को देश भर में फैलने से रोकने के लिए और अधिक अमेरिकियों से टीका लगवाने का आह्वान किया है।

वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी डेल्टा वैरिएंट को लेकर लोगों को आगाह किया है। उन्होंने सभी से वैक्सीनेशन कराने को कहा है। उन्होंने एक ट्वीट कर कहा कि कोरोना का यह स्ट्रेन काफी ज्यादा संक्रामक है जो 12 से 20 वर्ष के आयुवर्ग को अपनी चपेट में ले रहा है। इसके साथ ही उन्होंने विशेषरूप से युवाओं के वैक्सीनेशन पर जोर दिया है।

वैक्सीन लेने के बाद भी असर दिखा रहा डेल्टा वैरिएंट

दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में हुए एक शोध में सामने आया है कि कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी डेल्टा वैरिएंट (B1.617.2) अपना असर दिखा रहा है। अध्ययन के मुताबिक, कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट वैक्सीन के असर को कम कर दे रहा है। वैक्सीन लेने वाले संक्रमित हुए ज्यादातर लोगों में डेल्टा वैरिएंट ही पाया जा रहा है। इस अध्ययन में इस बात की भी पुष्टि की गई है कि डेल्टा वैरिएंट बहुत खतरनाक है। स्टडी में सामने आया है कि लोगों ने चाहे कोविशील्ड ली हो या फिर कोवैक्सीन, कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट लोगों को संक्रमित करने में सक्षम है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप