वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका ने सोमवार को बताया कि रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की खरीद मामले में उसकी भारत से वार्ता जारी है। भारत अगर इस खरीद पर आगे बढ़ता है तो उस पर प्रतिबंध लगाने के संबंध में भी अमेरिका ने अभी कोई फैसला नहीं लिया है।

दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की मुख्य उपसहायक विदेश मंत्री एलिस वेल ने सोमवार को बताया कि काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सेक्शंस एक्ट में अमेरिका राष्ट्रपति को छूट देने का अधिकार है। इस एक्ट के तहत रूस से हथियार खरीद करने वाले देशों पर अमेरिकी प्रतिबंध लगाने का प्रावधान है। जबकि भारत रूस से पांच एस-400 ट्रिम्फ मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम्स खरीदने की योजना बना रहा है। एक सवाल के जवाब में एलिस वेल ने कहा कि वर्तमान अमेरिकी प्रतिबंधों का उद्देश्य भारत जैसे देशों को प्रभावित करने का नहीं है। इनका उद्देश्य रूस पर प्रतिकूल प्रभाव डालने का है।

चार नवंबर तक ईरान से तेल आयात खत्म करने के मसले पर एलिस वेल ने कहा कि अमेरिका अपने साझीदार देशों के साथ यह सुनिश्चित करने का भरपूर प्रयास कर रहा है कि इसे बाजार बाधित न हो। उन्होंने कहा कि ईरानी तेल के स्थान पर बाजार में अन्य देशों से तेल की पर्याप्त आपूर्ति उपलब्ध है। मालूम हो कि ईरान भारत का तीसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता देश है। चाबहार बंदरगाह के संबंध में वेल ने कहा कि अमेरिका ने भारत सरकार की दलीलों को सही तरह से सुना है। 

Posted By: Manish Negi