नई दिल्ली, न्यूयॉर्क टाइम्स न्यूज सर्विस। कोरोनावायरस ने पूरी दुनिया में कहर बरपाया, अब तक करोड़ों लोग इसके संक्रमण के शिकार हैं तो लाखों लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना ने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर ही बुरा असर नहीं डाला, लोगों की जानें ही नहीं ली बल्कि कई लोगों के घर बसने से भी रोक दिए, जिनकी शादियां हो गई थीं वो कपल भी लॉकडाउन होने के बाद से अलग-अलग जगहों पर रह रहे हैं।

सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के देशों में ऐसे हजारों मामले सामने आए हैं। कुछ की शादियों की तारीखें तय थीं वो शादी नहीं कर पाएं जिनकी शादियां हो गई थीं वो अब तक मिल नहीं पाए, जो इंगेजमेंट की तैयारी कर रहे थे वो अभी भी एक दूसरे से मिलने का इंतजार कर रहे हैं। कोरोना के कारण तमाम देशों में फ्लाइटों का संचालन बंद है। रेलवे और मेट्रो ट्रेनें यार्ड में खडीं है।

उनके संचालन को अब तक परमीशन नहीं मिल पाई है। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर में तमाम कपल्स राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं जिससे वो अपने मंगेतर और पति के पास पहुंच सकें। लंदन की रहने वाली मारिसा लोबोतो (Marisa Lobato) हर सुबह जाग जाती है और समाचार पत्र और टीवी देखती है कि क्या यात्रा प्रतिबंध बदल गए हैं। वह साओ पाउलो ब्राजील में रहती है और उसके मंगेतर हॉर्स्ट शलेथ (Horst Schlereth) जर्मनी में है।

इससे पहले कि कोरोनोवायरस ने सब कुछ रोक दिया, लोबेटो ने अपनी शादी की तैयारी के लिए जर्मनी जाने की योजना बनाई थी। अब जब वे फिर से मिलेंगे तो उनके दैनिक कॉल झल्लाहट से भर जाएंगे। मारिसा कहती हैं कि हम इस स्थिति में पूरी तरह से फंस गए हैं। वो कहती हैं कि मुझे बहुत दुख होता है, मैं इस दुख को किसी के सामने व्यक्त नहीं कर पाती हूं मगर जब मैं अकेले होती हूं तो रोती हूं।

ऐसा नहीं है कि ये लोग इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि जब सरकार यात्रा प्रतिबंध हटाएगी और हवाई यात्राएं शुरू होंगी तो ही ये लोग जाएंगे। इन लोगों ने एक ग्रुप बनाकर बकायदा हैशटैग #LoveIsNotTourism और #LoveIsEssential का उपयोग करके यूरोपीय संघ के यात्रा प्रतिबंधों में बदलाव के लिए सोशल मीडिया पर रैली की है। इन लोगों के पास यूरोपीय संघ में बिना सरकार की इजाजत के प्रवेश करने का अधिकार नहीं है। जिससे ये अपने पार्टनरों से मिल सकें।

यूरोपीय आयोग ब्लाक की कार्यकारी शाखा ने सदस्य राज्यों से आग्रह किया है कि वो यूरोप में अविवाहित लोगों को यात्रा प्रतिबंध से छूट दें लेकिन केवल डेनमार्क और स्वीडन ने ही इस सिफारिश को अपनाया है। कुछ कपल्स का कहना है कि सीमा पर तैनात गार्डों को भी नए नियमों के बारे में नहीं बताया गया है जिसके कारण वो सीमा को पार ही नहीं करने देते हैं।

पिछले महीने के अंत में यूरोपीय संघ ने 15 देशों के आगंतुकों के लिए 1 जुलाई की यात्रा को फिर से शुरू करने की योजना की घोषणा की थी, ताकि पर्यटन सीजन को बचाया जा सके। संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील और रूस को अन्य देशों को विशेष रूप से बाहर रखा गया था। कुछ देश जो अभी भी प्रतिबंध लगा रहे हैं, वे कोरोनोवायरस को नियंत्रित करने के लिए यूरोपीय संघ की आवश्यकताओं को पूरा करने के करीब नहीं हैं। इससे पहले कि वे यात्रा शुरू कर सकें और उन मानकों तक पहुंचने के लिए हफ्तों, महीनों या अधिक की आवश्यकता हो सकती है।

यूरोपियन कमिश्नर फॉर होम अफेयर्स यल्वा जोहानसन एक वकील हैं। उसके कार्यालय ने कहा कि प्रभावित लोगों की संख्या पर कोई आधिकारिक आंकड़े नहीं हैं लेकिन महामारी के दौरान अलग हुए जोड़ों के लिए एक फेसबुक सहायता समूह में 3,000 सदस्य हैं। आयोग ने सिफारिश की है कि सदस्य राष्ट्र अविवाहित जोड़ों को पुनर्मिलन की अनुमति देते हैं।

जोहानसन ने कहा कि यह प्रत्येक देश पर निर्भर है कि वह अपनी नीति निर्धारित करे। बहुत से लोग जो चाहते हैं कि परिभाषा में कुछ बदलाव किया जाए ने इस महीने के दृष्टिकोण को अपनाया है। यूरोपीय संसद के कई सदस्यों ने अन्य यूरोपीय नेताओं को अधिक खुली नीतियों को लागू करने के लिए पत्र लिखा है। इस मामले में जर्मन आंतरिक मंत्री होर्स्ट सीहोफर ने एक खुले पत्र पर हस्ताक्षर किए।

जर्मनी के एक यूरोपीय संसद सदस्य मोरिट्ज कोएनेर ने कहा कि 21 वीं सदी का परिवार आधिकारिक विवाह से परे चला जाता है, इटली के प्रधानमंत्री ग्यूसेप कोंटे को लिखा था कई खुले पत्रों में से एक में उन्होंने यूरोपीय नेताओं को भेजा है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस