सिएटल, रायटर। अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी बोइंग ने कहा है कि वह इंडोनेशिया और इथोपिया में हुए 737 मैक्स विमान हादसों के पीड़ित परिवारों की मदद के लिए दस करोड़ डॉलर (करीब सात हजार करोड़ रुपये) देगी। यह मदद संबंधित देशों की सरकारों और गैर सरकारी संगठनों के जरिये कुछ सालों के दौरान पहुंचाई जाएगी। बोइंग के इस कदम को दो विमान हादसों के कारण अपनी खराब हुई छवि को सुधारने के तौर पर देखा जा रहा है।

पिछले साल 29 अक्टूबर को इंडोनेशिया की लॉयन एयर का विमान हादसे का शिकार हो गया था। इसके बाद इस साल दस मार्च को इथोपिया में भी एक 737 मैक्स विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इन दोनों हादसों में 346 लोगों की जान चली गई थी। इन हादसों के बाद से ही दुनिया के कई देशों ने 737 मैक्स विमानों की उड़ानें रद कर दी थीं। प्रारंभिक जांच में पाया गया था कि दोनों हादसों के लिए विमान का एंटी-स्टॉल सॉफ्टवेयर और अन्य तकनीकी खामियां जिम्मेदार हैं।

यह बात सामने आने के बाद बोइंग को दुनियाभर में तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा था। हादसों के बाद से बोइंग का यह विमान अमेरिका के न्याय विभाग की जांच के दायरे में है। बोइंग के खिलाफ पीडि़त परिवारों की ओर से भी 100 से ज्यादा मुकदमे किए गए हैं।

बोइंग के प्रवक्ता ने बुधवार को कहा, 'यह भुगतान मुकदमों से अलग है और कानूनी लड़ाई पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। दस करोड़ डॉलर से प्रभावित लोगों की शिक्षा और आर्थिक उन्नति में मदद की जाएगी।' दुनिया की इस सबसे बड़ी विमान निर्माता कंपनी ने हालांकि यह नहीं बताया कि वह यह धनराशि किस प्राधिकरण या संगठन को देगी।

पीड़ित परिवारों की नहीं बदलेगी रणनीति

इथोपिया विमान हादसे को लेकर दायर मुकदमे में कई पीड़ित परिवारों का प्रतिनिधित्व करने वाले न्यूयॉर्क के वकील जस्टिन ग्रीन ने कहा, 'इस राशि से अदालत में उनके मुवक्विलों की रणनीति पर असर नहीं पड़ेगा। पीड़ित परिवार यह जानना चाहते हैं कि हादसा क्यों हुआ और क्या इससे बचा जा सकता था?'

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप