वाशिंगटन, एजेंसियां। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने सोमवार को कहा कि इराक में अमेरिकी लड़ाकू मिशन साल के अंत तक समाप्त हो जाएगा। राष्ट्रपति बाइडन ने कहा कि इराक के साथ अमेरिकी संबंध अब एक नए चरण में प्रवेश करेंगे। इस्लामिक स्टेट के पुनरुत्थान के खतरे और बगदाद में ईरान के शक्तिशाली प्रभाव के बीच बाइडन ने जोर देकर कहा कि वाशिंगटन हमारे सुरक्षा सहयोग के लिए प्रतिबद्ध है। बाइडन ने कहा कि अमेरिकी सेना इराकी बलों को आइएसआइएस (इस्लामिक स्टेट) के खिलाफ प्रशिक्षण और सहायता देना जारी रखेगी। जानकारी के मुताबिक इराक में अमेरिका के लगभग 2,500 सैनिक हैं। यहां अमेरिकी सैनिक आतंकवाद विरोधी अभियान और इराकी सुरक्षा बलों को प्रशिक्षण देते हैं।

अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडन और इराक के प्रधानमंत्री मुस्ताफा अल-कादिमी के बीच इराक में 18 साल बाद अमेरिकी सेना के लड़ाकू मिशन को खत्‍म करने पर समझौता हुआ है। दोनों नेताओं ने सोमवार को औपचारिक रूप से एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किए। इस समझौते के अनुसार साल 2021 के अंत तक इराक में लड़ाकू मिशन खत्‍म हो जाएगा। इससे पहले अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने 18 साल पहले सद्दाम हुसैन के शासन को उखाड़ फेकने के लिए इराक में सेना भेजी थी।

वहीं, अब इराक के साथ नए रिश्तों पर जोर देते हुए बाइडन ने कहा कि वह बिजली की आपूर्ति को मजबूत करने, कोविड -19 से लड़ने, जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का सामना करने और निजी क्षेत्र के विकास का समर्थन करने में पूरी मदद करेंगे।

बाइडन ने व्हाइट हाउस में ईराकी पीएम कादिमी को बताया कि बगदाद को दिए गए पांच लाख कोरोना रोधी वैक्सीन की खुराक कुछ हफ्ते में हो पहुंच जाएगी। बाइडन ने इराक में अक्टूबर में होने वाले चुनावों के लिए अमेरिकी समर्थन पर भी जोर देते हुए कहा कि चुनाव निष्पक्ष सुनिश्चित करने के लिए वाशिंगटन बगदाद, खाड़ी सहयोग परिषद और संयुक्त राष्ट्र के साथ मिलकर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि हम इराक के लोकतंत्र को मजबूत करने का समर्थन करते हैं और हम यह सुनिश्चित करने के लिए उत्सुक हैं कि चुनाव आगे बढ़े।