मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

वाशिंगटन, एएनआइ। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद-370(Article 370) खत्म किए जाने के भारत सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान के साथ उसके तनाव लगातार बढ़ रहे हैं। अमेरिका इस तनाव को कम करने की कोशिशों में जुटा है। अमेरिका ने एकबार फिर भारत और पाकिस्तान से अपने रिश्तों को लेकर बात की है। अमेरिका ने कहा है कि उसका भारत और पाकिस्तान दोनों के साथ काफी जुड़ाव है।

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टागस ने कहा है कि, 'भारत और पाकिस्तान के साथ हमारा बहुत जुड़ाव है। पिछले दिनों हमारे यहां पीएम इमरान खान आए। उनसे न सिर्फ कश्मीर मुद्दे पर बात हुई बल्कि कई अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी चर्चा हुई, हालांकि कश्मीर मुद्दा अति महत्वपूर्ण है। 

मॉर्गन ऑर्टागस ने आगे कहा कि कई मुद्दे ऐसे हैं जिनको लेकर हम हम भारत के साथ काफी निकटता से काम कर रहे हैं और ऐसे ही कई मुद्दे हैं जिनपर हम पाकिस्तान के साथ भी काम कर रहे हैं।

इससे पहले मंगलवार को अमेरिका ने नियंत्रण रेखा पर शांति और संयम बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि वह भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर और अन्य मसलों पर सीधी बातचीत का समर्थन करता रहेगा। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा, 'अमेरिका जम्मू-कश्मीर के नए क्षेत्रीय दर्जे और प्रशासन के संबंध में भारतीय कानून पर करीब से नजर रख रहा है। हमने इन घटनाक्रमों से सीमा पर होने वाले असर का भी संज्ञान लिया है जिसमें क्षेत्र में अस्थिरता बढ़ने की संभावना शामिल है।'

प्रवक्ता ने यह भी कहा कि अमेरिका सभी पक्षों से शांति और संयम बनाए रखने की अपील करता है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में लोगों को हिरासत में लिए जाने पर चिंता भी व्यक्त की।

ईरान ने भी की भारत-पाक वार्ता की वकालत
जम्मू-कश्मीर के संबंध में भारत सरकार के फैसले पर ईरान भी करीब से नजर रख रहा है। ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैय्यद अब्बास मौसावी ने एक बयान जारी कर कहा, 'ईरान को उम्मीद है कि उसके क्षेत्रीय मित्र और साझीदार भारत व पाकिस्तान क्षेत्रीय लोगों के हितों को सुरक्षित रखने के लिए शांतिपूर्ण तरीकों और वार्ता जैसे प्रभावशाली कदम उठाएंगे।'

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप