वाशिंगटन, प्रेट्र। एजूकेशन सेक्टर में भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार में तेजी लाने के लिए अमेरिका को अपनी वीजा पॉलिसी में परिवर्तन लाना होगा। इसके लिए वाशिंगटन को वीजा में आने वाली दिक्कतों को दूर करना होगा। यूएस इंडिया स्टै्रटेजिक एंड पार्टनरशिप फोरम (यूएसआइएसपीएफ) ने कहा है कि 2019-20 के शिक्षा सत्र में भारत इंटरनेशनल स्टूडेंड के मामले में विश्व में दूसरे नंबर पर था। हालांकि, इस बार चार प्रतिशत गिरावट के बाद भी एक लाख 93 हजार से ज्यादा छात्र अमेरिका गए थे। इसका आधार ओपन डोर रिपोर्ट 2020 है। रिपोर्ट को अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने जारी किया है।

फोरम ने कहा है कि वीजा की प्रक्रिया में बाधाओं को दूर कर छात्रों की आवाजाही को आसान बनाने से एजूकेशन सेक्टर में अमेरिका को मजबूती मिलेगी। इससे दोनों ही देशों को फायदा होगा। भारतीयों को अपनी नौकरी सुरक्षित करने में मदद मिलेगी।

Edited By: Pooja Singh