वाशिंगटन, पीटीआई। अमेरिका ने भारत से अभी तक अपने करीब 1300 नागरिक निकाले हैं। लेकिन अब भी बड़ी संख्या में अमेरिकी भारत में हैं, जो स्वदेश लौटने में झिझक रहे हैं। माना जा रहा है कि दुनिया में सबसे ज्यादा मामले अमेरिका में सामने आ रहे हैं। इसलिए इन लोगों को अपने देश लौटने में डर लग रहा है।

अमेरिका की दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की कार्यवाहक उप सचिव एलिस जी वेल्स ने सोमवार को कहा, 'रविवार रात तक करीब 1300 अमेरिकी नागरिक वापस लाए गए। इस हफ्ते भारत के लिए पांच अतिरिक्त उड़ानें होंगी। यह सटीक आंकड़ा बता पाना कठिन है कि कितने अमेरिकियों को स्वदेश लौटने के लिए मदद चाहिए। अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास में सात हजार से ज्यादा लोगों ने पंजीकरण कराया है।

उन्होंने हालांकि इस बात का कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया कि बाकी अमेरिकी स्वदेश लौटने में क्यों घबरा रहे हैं? वेल्स ने सिर्फ इतना कहा कि भारत में मौजूद अमेरिकियों को यह निर्णय लेने की जरूरत है। यह अंदेशा जताया जा रहा है कि दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका हॉटस्पाट बन गया है। इसी के चलते अमेरिकी नागरिक अपने देश लौटने से कतरा रहे हैं।

कोरोना से निपटने के लिए गठित ह्वाइट हाउस के टास्क फोर्स के सदस्य यह आशंका जता चुके हैं कि अगले कुछ हफ्तों में महामारी के कारण अमेरिका में हालात और खराब हो सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि फिलहाल कोरोना वायरस के सबसे अधिक मामले अमेरिका में ही है। यहां संक्रमितों की संख्या 2 लाख के पार है वहीं, मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार से अधिक हैं। दरअसल, कोरोना वायरस की शुरुआत पिछले साल दिसंबर से हुई थी। इसके बाद से लगातार बाकी देशों में संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। बता दें कि कोरोना वायरस को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने महामारी घोषित कर दिया है।

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस