वाशिंगटन, पीटीआइ। राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि अमेरिका चीनी हाईपरसोनिक मिसाइलों को लेकर चिंतित है। एक मीडिया रिपोर्ट सामने आने के बाद बाइडन की तरफ से यह प्रतिक्रिया आई है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन ने हाल ही में एक परमाणु-सक्षम हाईपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया जिसने अमेरिका की खुफिया एजेंसियों को आश्चर्यचकित कर दिया।

गुरुवार को व्हाइट हाउस में यह पूछे जाने पर कि क्या अमेरिका चीन द्वारा नवीनतम हाईपरसोनिक मिसाइल परीक्षणों को लेकर चिंतित है, बाइडन ने कहा, 'हां'। हाईपरसोनिक मिसाइलें कम से कम मैक 5 की गति से उड़ती हैं, जो ध्वनि की गति से पांच गुना अधिक है।

फाइनेंशियल टाइम्स ने इस सप्ताह बताया कि चीन ने हाईपरसोनिक मिसाइलों का परीक्षण किया है। हालांकि, चीन ने इसका खंडन किया है। उसका कहना है कि उसने एक हाइपरसोनिक 'वाहन' का परीक्षण किया, न कि परमाणु-सक्षम हाइपरसोनिक मिसाइल का।

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने अगस्त में परमाणु-सक्षम हाईपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया, जिसने अपने लक्ष्य की ओर गति करने से पहले दुनिया का चक्कर लगाया और एक उन्नत अंतरिक्ष क्षमता का प्रदर्शन किया, जिसने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को आश्चर्यचकित कर दिया।

नेशनल पब्लिक रेडियो के अनुसार, नया हथियार महत्वपूर्ण होगा क्योंकि यह अमेरिका पर अप्रत्याशित दिशा से हमला कर सकता है, जैसे कि दक्षिणी ध्रुव। इसके मुताबिक, 'अमेरिका की मिसाइल रक्षा करने में सक्षम है और पूर्व-चेतावनी रडार उत्तरी ध्रुव जो अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों के लिए मानक मार्ग, की तरफ की जानकारी देते हैं, इसलिए देश विपरीत दिशा से हमले के लिए कमजोर होगा।' अमेरिका भी हाईपरसोनिक मिसाइल विकसित कर रहा है।

अमेरिकी नौसेना ने गुरुवार को कहा कि एक दिन पहले, उसने एक यथार्थवादी आपरेटिंग वातावरण में उन्नत हाईपरसोनिक प्रौद्योगिकियों, क्षमताओं और प्रोटोटाइप सिस्टम का प्रदर्शन करते हुए सफलतापूर्वक एक परीक्षण किया।

रक्षा विभाग ने कहा कि हाईपरसोनिक हथियार, ध्वनि की गति (मैक 5) से पांच गुना अधिक गति से उड़ने में सक्षम हैं, अत्यधिक गतिशील हैं और अलग-अलग ऊंचाई पर संचालित होते हैं। हाईपरसोनिक अनुसंधान के लिए पेंटागन का बजट अनुरोध इस वर्ष तीन अरब 80 करोड़ अमरीकी डालर है।

हाल के महीनों में अमेरिकी सैन्य अधिकारियों ने चीन की बढ़ती परमाणु क्षमताओं के बारे में चेतावनी दी है, विशेष रूप से उपग्रह इमेजरी के जारी होने के बाद, जिसमें दिखाया गया है कि यह 200 से अधिक अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल साइलो का निर्माण कर रहा था।

Edited By: Neel Rajput