वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका के उप रक्षा मंत्री कालिन एच. काल ने कहा कि भारत सरकार अफगानिस्तान की  स्थिति को लेकर चिंतित हैं। वे वहां की अस्थिरता और आतंकवाद विरोधी अपनी चिंताओं को लेकर परेशान है। अफगानिस्तान की स्थिति को देखते हुए रक्षा विभाग के उप मंत्री ने अमेरिकी सांसदों से कहा कि अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति पर भारत चिंतित है। कालिन एच. काल ने अफगानिस्तान, दक्षिण एवं मध्य एशिया सुरक्षा पर सुनवाई के दौरान सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के सदस्यों से कहा, 'मुझे यकीन है कि आप इस बात से अवगत हैं कि भारतीय अफगानिस्तान की स्थिति को लेकर चिंतित हैं। वे वहां की अस्थिरता और आतंकवाद विरोधी अपनी चिंताओं को लेकर परेशान हैं।'

सीनेटर गैरी पीटर्स के एक सवाल के जवाब में काल ने कहा, 'भारतीय इन मुद्दों पर हमारे साथ काम करना चाहते हैं।' उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के प्रति भारत की नीतियों की कल्पना बड़े पैमाने पर पाकिस्तान के साथ प्रतिस्पर्धा और छद्म संघर्ष को ध्यान में रखकर की जाती है। यह भी एक कारण है कि भारत की इस आशंका पर हमें चिंतित होना चाहिए कि तालिबान प्रशासन कश्मीर के आसपास विशेष रूप से भारत विरोधी आतंकी संगठनों को फायदा पहुंचा सकता है।

भारत है अमेरिका का एकमात्र नामित प्रमुख रक्षा भागीदार

उन्होंने कहा कि इस महत्वपूर्ण भागीदार के साथ मिलकर काम करने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता और यह तथ्य कि भारत, अमेरिका का एकमात्र नामित प्रमुख रक्षा भागीदार है। अब हमारे लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि अफगानिस्तान के प्रति उनका दृष्टिकोण कैसा है और आगे कैसा रहेगा। सीनेटर जैक रीड के एक अन्य सवाल के जवाब में काल ने कहा कि पाकिस्तान एक चुनौतीपूर्ण भूमिका पेश करता है, लेकिन वह नहीं चाहता कि अफगानिस्तान आतंकवादी हमलों या बाहरी हमलों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बने।

यह भी पढ़ें: कोरोना के डर से तीन महीने तक हवाईअड्डे पर ही रुका ये भारतीय, अमेरिकी अदालत ने अनाधिकृत प्रवेश को लेकर किया बरी