मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

वाशिंगटन, प्रेट्र । अमेरिका के सभी 50 राज्यों ने दुनिया की दिग्गज टेक कंपनी गूगल के संभावित एकाधिकारवादी बर्ताव और ऑनलाइन विज्ञापन बाजार में उसके वर्चस्व की जांच करने का एलान किया है। इन राज्यों के अटॉर्नी जनरल ने सोमवार को कहा कि गूगल के कुछ बर्ताव के चलते इंटरनेट मुफ्त नहीं है।

कोलंबिया के अटॉर्नी जनरल कार्ल रैसीन ने यहां कहा, 'विभिन्न राज्य और क्षेत्र गूगल के संभावित एकाधिकारवादी बर्ताव की जांच शुरू कर रहे हैं।' टेक्सास के अटॉर्नी जनरल केन पैक्सटन ने कहा, 'इंटरनेट पर विज्ञापन और सर्च के सभी पहलुओं पर गूगल का वर्चस्व है। कई उपभोक्ता मानते हैं कि इंटरनेट फ्री है। लेकिन हमें पता चला है कि गूगल का मुनाफा 117 अरब डॉलर (करीब आठ लाख 40 हजार करोड़ रुपये) है तो इंटरनेट कहां फ्री है।' अमेरिकी कंपनी गूगल का मुख्यालय कैलिफोर्निया में है।

आरोपों को गूगल ने ठुकराया

गूगल ने आरोपों को ठुकराते हुए कहा कि अमेरिका में उसकी सेवाओं से लोगों को मदद मिलती है और ज्यादा विकल्प मिलते हैं। हजारों नौकरियों और छोटे कारोबार को समर्थन भी मिलता है। नई जांच पर गूगल के वैश्विक मामलों के उपाध्यक्ष केंट वाकर ने कहा, 'हमारे लिए यह नया नहीं है। पूर्व में अमेरिका के न्याय विभाग की ओर से की गई जांच में जो सवाल पूछे गए थे, उनके जवाब दिए गए थे। हमें उम्मीद है कि अटॉर्नी जनरल भी वही सवाल पूछेंगे। हम नियामकों के साथ हमेशा रचनात्मक काम करते हैं और आगे भी करते रहेंगे।'

फेसबुक भी जांच के दायरे में

अमेरिकी राज्यों के एक समूह ने गत शुक्रवार को फेसबुक के खिलाफ भी जांच का एलान किया था। ये राज्य इस बात की पड़ताल करेंगे कि क्या इस दिग्गज सोशल नेटवर्किंग साइट ने यूजर्स के डाटा की सुरक्षा के लिए पर्याप्त उपाय किए थे या नहीं। कड़ी प्रतिस्पर्धा को लेकर भी उसकी जांच की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः Gmail-Calendar spam: Google ने शुरू की डाटा चोरी की जांच

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप