संवाद सहयोगी, घाटशिला : बेनाशोल के रहने वाले 24 राष्ट्रीय राइफल के जवान शहीद दिलीप बेसरा की 36वीं जयंती पर आम व खास ने गोपालपुर रेलवे ओवरब्रीज पर स्थापित शहीद के आदमकद प्रतिमा पर पुष्प अर्पण कर श्रद्धांजलि दी। बहरागोड़ा के विधायक कुणाल षांड़गी ने शहीद दिलीप बेसरा के प्रतिमा स्थल के समीप राष्ट्रीय ध्वज फहराया व शहीद के प्रतिर्मा पर पुष्प अर्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया है। शहीद बेटे की मां फूलमणी बेसरा व पिता ¨सगराय बेसरा ने प्रतिमा के समक्ष परंपरागत तरीके से पूजा-अर्चना की। विधायक कुणाल षांड़गी ने शहीद की मां को वस्त्र भेंट कर व चरण स्पर्श कर प्रणाम किया। षांड़गी ने अपने संबोधन में कहा कि शहीद दिलीप बेसरा युवाओं के प्रेरणा स्त्रोत है। आज के समय में हमारे देश के नौजवान फिल्मी सितारों, क्रिकेटर व अन्य बड़े हस्तियों को अपना प्रेरणा स्त्रोत मान रहे है, लेकिन वास्तव में युवाओं के लिए शहीद दिलीप बेसरा ही प्रेरणा होना चाहिए। वतन के रक्षा में शहीद होने का अवसर हर किसी को नहीं मिलता। मैं उस मां को सलाम करना चाहूंगा जिसने शहीद दिलीप बेसरा जैसे बहादुर को जन्म दिया। ऐसे माताओं को हमें प्रणाम करना चाहिए जिन्होंने अपने लाड़ले को शहादत के लिए भेजा। विधायक ने कहा ¨जदगी शानदार बनाने की कोशिश हर कोई करता है मगर यह ऐसा प्रोफेशन है जहां मौत को शानदार बनाया जा सकता है। वैसे इस दुनिया में आने वाले व्यक्ति को एक ना एक दिन जाना तय होता है। आम लोगों के मृत्यु को मौत कहा जाता है, लेकिन एक जवान के मृत्यु को शहादत का नाम दिया जाता। देश के लिए यह नाम पाना गौरव की बात होनी चाहिए। हर बेटे को देश के रक्षा का प्रण लेना चाहिए। दाहीगोड़ा आक्सफोर्ड कान्वेंट स्कूल के बच्चों ने भी जयंती पर शहीद दिलीप बेसरा को नमन किया है। मौके पर मुख्य रूप से आइसीसी वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष बीएन ¨सहदेव, महासचिव नवल ¨सह, जगदीश भकत, कालाचंद सरकार, राजहंस मिश्रा, विश्वनाथ दंडपात समेत काफी संख्या में लोग मौजूद रहे।

-----------------------------

मुखिया समिति ने किया शहीद को नमन

घाटशिला प्रखंड के मुखिया समन्वय समिति के सदस्यों ने भी शहीद दिलीप बेसरा की जयंती पर उनके आदमकद प्रतिमा पर पुष्प अर्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया। मुखिया समन्वय समिति के अध्यक्ष कान्हाई मुर्मू, मुखिया बैजू मुर्मू, ठाकुर प्रसाद मार्डी, सोनामणी सोरेन, पूर्व मुखिया हीरालाल सोरेन समेत कई लोगों ने पुष्प अर्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया।

----------

शहीद के पैतृक गांव में भी मनाई जयंती

जयंती के अवसर पर विभिन्न प्रकार के खेलकूद व सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान फुटबाल प्रतियोगिता, हांडी फोड़, तीरंदाजी सहित कई प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वालों को शहीद दिलीप बेसरा स्मारक समिति की ओर पुरस्कृत किया गया। शाम को संथाली गायिका सरस्वती हांसदा के द्वारा गित संगीत प्रस्तुत कर सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। समिति के अध्यक्ष जगदीश भकत ने बताया कि वीर शहीद दिलीप बेसरा का जन्म बेनाशोल में 16 फरवरी 1982 को हुआ था। कम उम्र में ही उसने वीर गति को प्राप्त की। कश्मीर के हॉया जिले में 3 मई 2006 को दुश्मन से लोहा लेते समय बेनाशोल का लाल देश की सीमा रक्षा करते हुए शहीद हो गया था।

Posted By: Jagran