जागरण संवाददाता, पुरुलिया : पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विभिन्न गुटों में आपसी सहमति न बन पाने के कारण 38 सीटों के लिए होने वाले पुरुलिया जिला परिषद चुनाव में तृणमूल काग्रेस के 78 प्रत्याशियों ने नामाकन दाखिल किया है। कुछ ऐसी ही समस्या से टीएमसी को पंचायत समिति के चुनाव में भी दो-चार होना पड़ रहा है। इसमें 20 पंचायत समितियों की 446 सीट के लिए टीएमसी के 692 प्रत्याशी अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। वहीं 170 ग्राम पंचायतों की 1944 सीटो के लिए पार्टी के 2477 प्रत्याशियों ने नामाकन किया है। नामाकन वापस लेने का अंतिम तारीख 16 अप्रैल है, लेकिन कोई भी दावेदार नाम वापस लेने को तैयार नही है। इस गंभीर संकट से जूझ रहे जिला नेतृत्व ने प्रत्याशियों की सूची जारी नही की है।

वहीं टीएमसी के जिला अध्यक्ष शातिराम महतो का कहना है कि पार्टी जिन प्रत्याशियों को टिकट देगी, वहीं चुनाव लड़ेगा। बाकी को नाम वापस लेना होगा। दूसरी ओर कुछ प्रत्याशी दावा कर रहे हैं कि पार्टी टिकट दे या नहीं वे चुनाव लड़ेंगे। पार्टी में आपसी सहमति नहीं बन पाने का सबसे बड़ा उदाहरण पाड़ा विधानसभा का रघुनाथपुर ब्लाक है। जहां की 30 नंबर सीट पर टीएमसी के पांच व 31 नंबर सीट से कुल सात दावेदार मैदान में हैं।

-----------------

बलरामपुर में भाजपा-टीएमसी समर्थक भिड़े

जासं, पुरुलिया : जिले के बलरामपुर ब्लाक कार्यालय के निकट बुधवार को नामाकन के दौरान टीएमसी व भाजपा समर्थकों के बीच भिड़ंत हो गई। इसमें कुल 12 भाजपा समर्थक घायल हो गए। इस संबंध में भाजपा जिला सभापति विद्यासागर चक्रवर्ती का कहना है कि टीएमसी समर्थकों ने भाजपाइयों पर हमला किया था, लेकिन पुलिस सत्तारूढ़ टीएमसी ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला करने का झूठा आरोप लगाकर उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया। जिनके दबाव में पुलिस ने 14 भाजपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं दूसरी ओर घटना के बाद क्षेत्र में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

Posted By: Jagran