संवाद सूत्र, मेदिनीपुर : पश्चिम मेदिनीपुर जिला अंतर्गत शालबनी में हाथी के बच्चे के गड्ढे में गिर जाने से इलाके में हड़कंप मच गया। वाकये के बाद करीब तीन घंटे तक हाथियों का झुंड रिहायशी इलाके में जमा रहा। हाथियों के चले जाने के बाद वनकर्मियों ने बच्चे को गड़्ढे से बाहर निकाला। जानकारी के मुताबिक मंगलवार की सुबह शालबनी थाना क्षेत्र के बांकीबांध में हाथियों का एक झुंड घूम रहा था। इस बीच झुंड में शामिल करीब तीन महीने का एक शावक गड्ढे में गिर गया। इससे हाथी आक्रामक हो गए। उन्होंने अपने स्तर पर शावक को बचाने की भरसक कोशिश की, लेकिन देर तक सफलता नहीं मिलने पर हाथी करीब तीन घंटे बाद बाकीबांध जंगल में चले गए। उनके चले जाने के बाद वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे और उन्होंने प्रयास कर शावक को बाहर निकाला। देर तक खड्ड में गिरे रहने से शावक की हालत बिगड़ गई। लिहाजा वन विभाग की ओर से उसका उपचार कराया गया। मेदिनीपुर के प्रमंडलीय वन अधिकारी रविन्द्र नाथ साहा ने कहा कि फिलहाल शावक की हालत में सुधार नजर आ रहा है। वह खतरे से बाहर है। उसकी स्थिति पर नजर रखी जा रही है। उसके पूर्ण रूपेण स्वस्थ होने के बाद फैसला किया जाएगा कि उसे कहां रखा जाए। उसे हाथियों के झुंड में वापस भेजने की कोशिश भी जाएगी। बताते चलें कि कुछ दिन पहले परित्यक्त सैप्टिक टैंक में गिर जाने से हाथी के एक बच्चे की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद हाथियों ने इलाके में काफी आतंक मचाया था। उन्होंने खड़ी फसल को नष्ट करने के साथ ही घरों पर भी हमला किया था। लिहाजा इस घटना के बाद भी ग्रामीण आतंकित हैं। हालांकि वन विभाग के कर्मचारी घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप