संवाद सूत्र, हल्दिया (मेदिनीपुर)। हवा के निम्न दबाव के चलते पूर्व मेदिनीपुर जिले में मौसम का कहर शुक्रवार को भी जारी रही। समुद्र तटीय क्षेत्रों में हाई अलर्ट जारी रही। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने का निर्देश दिया गया है, वहीं दीघा, मंदारमणि आिद समुद्र तटों पर पर्यटकों को भी स्नान आदि करने को मना किया गया है। इस बीच, मरीन पुलिस ने दीघा के पास समुद्र में फंसे 12 मछुआरों को सकुशल बाहर निकालने में कामयाबी हासिल की। दक्षिण चौबीस परगना जिले के रहने वाले ये मछुआरे चक्रवाती तूफान में फंस गए थे। दीघा के समुद्री इलाके से एक मृत डॉल्फिन भी बरामद हुई है।

पूर्व मेदिनीपुर सहित आसपास के इलाकों में गुरुवार की सुबह से कभी भारी तो कभी हल्की बारिश का दौर शुक्रवार को भी जारी रहा। बुधवार की सुबह मछली पकड़ने के लिए दक्षिण चौबीस परगना जिले के काकद्वीप से 12 मछुआरों का दल एक ट्रॉलर पर सवार होकर समुद्र में उतरा था। खराब मौसम के दौरान बुधवार की सुबह अचानक ट्रॉलर के इंजन में खराबी आ गई। इस बीच, ट्रॉलर समुद्र के थपेड़ों के साथ पूर्व मेदिनीपुर के दीघा मुहाना तक पहुंच गया। इसी दौरान ट्रॉलर मरीन पुलिस की निगाह में आ गया।

पूर्व मेदिनीपुर जनपद के नया दीघा समुद्र तटीय इलाके में मृत डॉल्फिन।

जानकारी राज्य सरकार के संबंधित विभाग को दी गई। उसके बाद मरीन पुलिस द्वारा शुक्रवार की सुबह से राहत व बचाव कार्य आरंभ किया गया। सभी 12 मछुआरों को समुद्र से सुरक्षित निकाल कर स्वास्थ्य परीक्षण के लिए दीघा स्टेट जनरल हॉस्पिटल भेजा गया। दीघा फिशनमेन एंड फिश ट्रेडर्स एसोसिएशन ने मछुआरों के लिए भोजन अादि का प्रबंध किया। एएसपी (ग्रामीण) इंद्रजीत बसु ने कहा कि मछुआरों को सकुशल निकाल लिया गया है। इसके साथ ही उनके परिजनों को भी सूचना दे दी गई है।

इसी दौरान सुबह न्यू दीघा अंतर्गत जात्रा नाला खाल के पास एक मृत डॉल्फिन मिली। सात फिट लंबी मृत डॉल्फिन की अनुमानित आयु 3.5 वर्ष बताई गई। दीघा थाने के प्रभारी वासुकि बनर्जी ने बताया कि सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने घटना की जानकारी वन विभाग को भी दे दी थी। वन विभाग मृत डॉल्फिन को बरामद कर अपने साथ ले गई। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच-पड़ताल के मुताबिक संभवत: खराब मौसम के कारण विशाल लहरों के चपेट में आकर चोट लगने की वजह से डॉल्फिन की मौत हुई। वन विभाग अपने स्तर से पड़ताल कर रहा है। 

Posted By: Sachin Mishra