-जिला प्रशासन ने नौका मालिकों के बीच वितरित किये 700 लाइफ जैकेट

-शाम के बाद से नौका विहार पर पाबंदी

संवाद सूत्र, मालदा : मालदा में नौका हादसा में तीन बच्चों की मौत से प्रशासन की नींद उड़ गयी है। इस हादसे से सबक लेते ही जिला प्रशासन ने विशेष गाइड लाइन जारी किया है। प्रशासन के निर्देश के अनुसार बिना लाइफ जैकेट पहने किसी भी यात्री को नौका में सवार नहीं हो सकते। शाम के बाद से कोई नौका विहार या नौका से आवागमन नहीं करेगा। यदि इस निर्देश की अवहेलना हुई, तो उसके खिलाफ शख्त कार्रवाई होगी। शुक्रवार को नौका मालिकों के बीच 700 लाइफ जैकेट व लाइफ रिंग वितरित किया गया। इस अवसर पर अतिरिक्त जिला शासक अरूण कुमार राय, जिला परिषद के कर्माध्यक्ष सरला मुर्मू सहित विभिन्न प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। गौरतलब है कि मालदा के गंगा, फुलाहार व महानंदा नदी का जल स्तर काफी बढ़ रहा है। जिला के कालियाचक के दो, तीन नंबर ब्लॉक के रतुआ, हरिशचंद्रपुर व मालदा शहर के विभिन्न गांव में नदी का पानी घुस गया है। जिला के महानंदा व गंगा नदी में एक सप्ताह के भीतर दो नौका हादसा से जिले में आतंक का माहौल है। दरअसल नौका में क्षमता से अधिक यात्रियों को बिठाया जाता था, साथ ही लाइफ जैकेट की कोई व्यवस्था नहीं थी, जिसके कारण यह हादसा हुआ।

नौका के माझी सुशांत महतो ने बताया कि हम कभी भी क्षमता से अधिक यात्रियों को नहीं बिठाते। लेकिन कोई जबरदस्ती बैठ जाता है। रोकने पर हमारे से गाली-गलौज करते है। हमें ही धमकाते है। घाट पर पुलिस का होना जरूरी है। शाम के समय अधिक परेशानी होती है।

अतिरिक्त जिला शासक अरूण कुमार राय ने बताया कि जिला के महानंदा, गंगा, फुलाहार आदि नदियों में यातायात के समय नदी मार्ग का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन नौका मालिक इसमें असवाधानी बरतते है, जिसके कारण पिछले दिनों दो नौका हादसा हुआ। नौका मालिकों के लिए विशेष गाइड लाइन जारी की गयी है। इसकी अवहेलना करने पर शख्त कार्रवाई की जाएगी।

कैप्शन : लाइफ जैकेट के साथ माझी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप