-मिल मालिकों ने धान खरीदने से किया इंकार

-सरकारी मूल्य पर नहीं खरीदा जाता है ध्यान : अजय गांगुली

संवाद सूत्र, मालदा : किसान मंडी में बुधवार को मिल मालिक व किसानों के बीच हाथापाई हो गयी। इसे लेकर धान की खरीद-फरोख्त बंद रही है। यह घटना मालदा के गाजोल थाना इलाके की है। इसे लेकर इलाके में उत्तेजना का माहौल है। सुरक्षा का हवाला देते हुए मिल मालिकों को धान खरीदने से इंकार कर दिया। सरकारी तौर पर प्रशासन की मदद से गाजोल में सरकारी मूल्य पर धान की बिक्री शुरू हुई है। स्थानीय किसान मंडी में धान बेचने के लिए सैकड़ों किसान एकत्रित हुए थे। लेकिन धान की गुणवत्ता को देखकर मिल मालिकों ने धान खरीदने से इंकार कर दिया। इसे लेकर मालिक व किसान के बीच जमकर विवाद हो गया।

किसान अख्तर हुसैन ने बताया कि मिल मालिक सरकारी मूल्य पर धान नहीं खरीद रहें है। धान की गुणवत्ता पहले भी जांच की जा चुकी है। इसके बाद वें धान खरीदने से इंकार कर रहें है। इसे लेकर किसानों को समस्या हो रही है। दूसरी ओर मिल मालिक निर्मल अग्रवाल ने बताया कि किसान झूठा आरोप लगा रहें है। हमारे कर्मचारियों पर हमला किया गया। इसके कारण कर्मचारी काम नहीं करना चाहते। सुरक्षा को देखते हुए हमने फिलहाल धान खरीदने से मना कर दिया।

इस संबंध में कृषि विभाग के सहायक अधिकारी मानवेंद्र साहा ने बताया कि खाद्य साथ परियोजना के तहत धान संग्रह किया जा रहा है। दोनों पक्ष के बीच गलतफहमी के कारण मामला गड़बड़ा गय है।

इस संबंध में जिला भाजपा के उपाध्यक्ष अजय गांगुली ने बताया कि सरकारी मूल्य पर धान नहीं खरीदा जा रहा है। हम इसे लेकर आंदोलन करेंगे।

कैप्शन : किसान मंडी के बाहर कृषकों की भीड़

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस