-मुस्लिम भाई के शव यात्रा में शामिल हुए हिंदू भाई, कब्र में दी मिट्टी

संवाद सूत्र, मालदा : लोक गायक भपेन हजारिका का एक गीत है 'मानुष जे मानुषेर जनो' अर्थात मनुष्य, मनुष्य के लिए ही है। आज जब धर्म के नाम पर लोग बंट रहे है, बांटे जा रहे है। वहां चांचल के एक नंबर ब्लॉक के अश्वनीपुर गाव में सांप्रदायिक सौहार्द का नजारा देखा गया। मुस्लिम भाई के मौत पर हिंदू भाई शव यात्रा में शामिल ही नहीं हुए, बल्कि मिट्टी भी दी और उनके लिए जन्नत की दुआ की। गौरतलब है कि अश्वनीपुर गांव के निवासी अब्दुल रसीद(65)का देहांत हो गया। वें पेशे से राशन डीलर थे। उम्र जनित बीमारी के कारण उनकी मौत हो गई। उनकी मौत पर मुस्लिम ही नहीं हिंदू भाई भी शामिल हुए। उनके निधन पर पूरे इलाके में मातम छाया हुआ था। चांचल के विधायक आसिफ महबूब ने बताया कि समाज में ऐसे उदाहरण से मानव जाति का विकास होता है। वहीं वरिष्ठ शिक्षक साइखुल आलम सिद्दकी ने कहा कि वर्तमान परिस्थिति में ऐसे कार्य से सौहार्द की भावना बढ़ती है। आने वाली पीढ़ी के लिए हम अच्छा माहौल दे पाएंगे।

कैप्शन : कब्र पर मिट्टी डालते हिंदू -मुस्लिम संप्रदाय के लोग

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस