राज्य ब्यूरो, कोलकाता : वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय के पार्टी छोड़ने के बाद अब भाजपा की बंगाल इकाई, पार्टी के खिलाफ जाने वाले नेताओं के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने के लिए एक 'अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति' का गठन करेगी। प्रदेश भाजपा के महासचिव सायंतन बसु ने संवाददाताओं को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि समिति पर अंतिम निर्णय प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष लेंगे। बसु की यह घोषणा मुकुल रॉय के अपने पूर्व राजनीतिक दल तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल होने की पृष्ठभूमि में आई है।

वहीं दूसरी ओर मुकुल रॉय की तृणमूल कांग्रेस में वापसी पर शुक्रवार को भगवा खेमे में मिलीजुली प्रतिक्रिया देखने को मिली। जहां पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि इसका संगठन पर कोई असर नहीं होगा, वहीं पूर्व सांसद व पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अनुपम हाजरा ने दावा किया कि गुटबाजी की राजनीति से पार्टी को नुकसान हो रहा है।

दूसरी ओर भाजपा के प्रदेश महासचिव जयप्रकाश मजूमदार ने रॉय को अपनी तरफ से बधाई देते हुए कहा कि उन्हें तत्काल भाजपा के सभी पदों को छोड़ देना चाहिए। दूसरी ओर, विष्णुपुर से भाजपा सांसद व पार्टी की युवा इकाई के राज्य अध्यक्ष सौमित्र खान ने मुकुल को मीरजाफर तक बता दिया है। जबकि, बैरकपुर से भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि अवसरवादी लोग ही ऐसा करते हैं।

मुकुल राय के दोबारा तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि यह लोकतांत्रिक देश है। कोई पार्टी छोड़ ही सकता है।जनता सब देख रही है।

Edited By: Vijay Kumar