कोलकाता, जागरण संवाददाता। महानगर समेत राज्य के अन्य हिस्सों में फैले डेंगू के प्रकोप के मद्देनजर राज्य सरकार ने एक अहम निर्णय लिया है। इसके लिए राज्य सरकार ने राष्ट्रीय एटलस एवं थिमैटिक मानचित्रण संगठन (एनएटीएमओ) से ऐसे इलाकों का थ्री डी नक्शा तैयार करने में मदद मांगी है, जहां पर डेंगू के मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को इस बारे में बताया। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक जनवरी से डेंगू की वजह से 25 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और 2000 से ज्यादा लोग इससे प्रभावित हुए। अधिकारी ने बताया कि राज्य में कई खाली जगह, इमारतें और सुनसान स्थान हैं, जहां बारिश केदिनों में जल जम जाता है और निगम कर्मचारियों को इस बारे में पता ही नहीं चल पाता है। कोलकाता मुख्यालय वाले एनएटीएमओ द्वारा थ्री डी नक्शा तैयार किए जाने पर पता चलेगा कि कौन से वे इलाके हैं, जहां पर पानी जमने से वजह से मच्छरों का लार्वा पनपता है।

बीमारी पर नियंत्रण के अपने प्रयासों के तहत पिछले साल से संवेदनशील इलाकों में ड्रोन से जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं। लेकिन ड्रोन से ली गई तस्वीरें काफी नहीं है। हमें बेहतर योजना की जरूरत है। यही कारण है कि हमने थ्री डी नक्शा तैयार कराने का फैसला किया है। वहीं एनएटीएमओ की निदेशक ताप्ती बनर्जी ने बताया कि संगठन ने नक्शा तैयार करना शुरू कर दिया है। फिलहाल इसे प्रायोगिक आधार पर तैयार किया जा रहा है। बनर्जी ने आगे बताया कि केवल कोलकाता ही नहीं एनएटीएमओ के विशेषज्ञ नक्शा तैयार करने के पहले उत्तर और दक्षिण 24 परगना तथा हुगली जिलों को भी इसमें शामिल करेंगे। 

बीमारी पर नियंत्रण के प्रयासों के तहत

-डेंगू पीडि़त और संवेदनशील इलाकों पर रखी जाएगी नजर

-महानगर के साथ उत्तर-दक्षिण 24 परगना व हुगली को किया जाएगा शामिल

-प्रायोगिक आधार पर तैयार किया जा रहा है थ्री डी नक्शा

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप