कोलकाता, विनय कुमार। दक्षिण कोलकाता के मशहूर दुर्गापूजा आयोजकों में शुमार कस्‍बा के राजडांगा नव उदय संघ ने इस बार राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को अपना थीम बनाया है। पूजा समिति के सचिव प्रशांत दास ने बताया-‘हमने बंगाल के लोगों में एनआरसी को लेकर व्याप्त दहशत को दर्शाने की कोशिश की है। पंडाल में विशाल रैकेट व शटलकॉक को दर्शाया गया है। शटलकॉक के जरिए यह दर्शाने की कोशिश की गई है कि शरणार्थी का कोई औचित्य नहीं है। उन्हें शटलकॉक की तरह दो देशों द्वारा रैकेट से एक-दूसरे की ओर फेंका जा रहा है।’

पूजा समिति के अध्यक्ष सुशांत घोष ने कहा कि शरणार्थियों के मानवाधिकारों को ताक पर रखकर उनके साथ ज्यादती की जा रही है। वे आज कहीं के नहीं हैं। दुर्गा प्रतिमा में लोहे की बाड़ लगाई गई है, जो सीमा का प्रतीक है और भौगोलिक रूप से देशों को पृथक करती है लेकिन इससे लोग भी अलग हो रहे हैं।

थीम आर्टिस्ट सुब्रत बनर्जी ने कहा कि मूर्ति के पास एक पक्षी भी दिखाया गया है, जिसे इस तरह से डिजाइन किया गया है कि उसे देखने से यह प्रतीत हो रहा कि सीमाओं में देशों के बंटने के बाद इंसान शरणार्थी बन सकते हैं लेकिन अन्य प्राणी नहीं क्योंकि वे मानव से कहीं अधिक मुक्त हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या इस तरह का थीम विवाद को आमंत्रित नहीं करेगा, इस पर घोष ने कहा-‘ हमने इस थीम के जरिए शरणार्थियों की रक्षा करने की मांग की है। अगर आप विस्थापित लोगों का मुद्दा उठाएंगे तो एनआरसी की अनदेखी नहीं कर सकते।’ आंकड़ों की मानें तो असम के बाद बंगाल दूसरा ऐसा राज्य है, जहां बांग्लादेश से आए लोग काफी तादाद में हैं। इस मसले को लेकर केंद्र व बंगाल सरकार आमने-सामने हैं।

‘पंडाल एक्सप्रेस’ दुर्गा पूजा में देगी मुफ्त बस सेवा

वहीं दूसरी और सुखद अनुभव और अपने ग्राहकों के पूजा सेलिब्रेशन को खास बनाने को वोडाफोन की ओर से ‘पंडाल एक्सप्रेस’ नाम से विशेष बस सेवा की शुरुआत की गई। जिसे राज्य के पर्यटन सचिव अत्री भट्टाचार्य ने हरी झंडी दिखा रवाना किया। वहीं इस मौके पर वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के कोलकाता व पश्चिम बंगाल के बिजनेस हेड शिवन भार्गव ने कहा कि पंचमी से शहर के वोडाफोन ग्राहकों को चिंता मुक्त, आध्यात्मिक व आनंदमय पूजा परिक्रमा को खास बनाने को कंपनी की ओर से विशेष पहल के रूप में ‘पंडाल एक्सप्रेस’ नाम से बस सेवा शुरू की गई है।

जिसके तहत ग्राहकों को उनके बताए स्थान से उठाने के साथ ही पूजा परिक्रमा के उपरांत उनके गंतव्य तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई है, ताकि उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े और वे सुखद माहौल में अपने पूजा को बेहतर तरीके से सेलिब्रेट सके।

आगे उन्होंने बताया कि कुल चार एसी बसों की व्यवस्था की गई है, जो पंचमी से पांच दिनों यानी नवमी (सात अक्टूबर) के शाम चार बजे तक ग्राहक सेवा में तैनात रहेगी। साथ ही ये सभी बसें शहर के भिन्न-भिन्न रूटों से खुलेंगी, जो ग्राहकों को पूरे दिन मंडपों का परिदर्शन कराएगी। इसके अलावा प्रत्येक बस दिन में कम से कम आठ बार एक ही मार्ग को कवर करेगी, जिससे हजारों लोगों को इस खास पल को सेलिब्रेट करने का मौका मिलेगा। वहीं वोडाफोन ग्राहक भीड़ से बचने को माई वोडाफोन ऐप से टिकट की प्री-बुक करा सकते हैं।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप