राज्य ब्यूरो, कोलकाता : कोलकाता में 94 साल के एक बुजुर्ग व्यक्ति ने कोलकाता मेडिकल कॉलेज में कई दिनों तक जंग लड़ने के बाद कोरोना को परास्त कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, महानगर में पहली बार इस उम्र में किसी रोगी ने कोरोना को हराया है। इससे पहले हावड़ा के एक निजी कोविड अस्पताल से 90 साल की एक वृद्धा कोरोना को हरा कर स्वस्थ हुईं थी। जानकारी के अनुसार, कोलकाता मेडिकल कॉलेज में भर्ती उक्त वृद्ध को गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इस दौरान मेडिकल कॉलेज के रोगी कल्याण समिति के चेयरमैन डॉ निर्मल मांझी व अस्पताल अधीक्षक प्रो डॉ इंद्रनील विश्वास व अन्य चिकित्सक उपस्थित थे। 

कोरोना को हवाले वृद्ध उत्तर कोलकाता के बीडन स्ट्रीट के रहनेवाले हैं। उन्हें गत छह जून को कोलकाता मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध स्थिति में भर्ती कराया गया था। उन्हें तेज बुखार व सांस लेने में समस्या के साथ अस्पताल में दाखिल कराया गया। जांच में कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद उन्हें 13 जून को अस्पताल के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक के कोविड वार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया।

उधर, उनके कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद परिवार ने भी हार मान ली थी। लेकिन चिकित्सकों ने हार नहीं मानी और गहन देख-रेख की वजह से ही वृद्ध कोरोना को मात देने में सफल रहे।गौरतलब है कि इससे पहले 92 वर्षीय एक वृद्ध को कोरोना की चिकित्सा के लिए एमआर बांगुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, हालांकि उन्हें बचाया नहीं जा सका था। लेकिन कलकत्ता मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने असंभव को संभव कर दिखाया। उधर, डॉ निर्मल मांझी का दावा है कि पूर्वी भारत में पहली बार इस उम्र के किसी रोगी ने कोरोना को मात दी है। इसके लिए उन्होंने मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों को बधाई भी दी। बता दें कि राज्य में अब कोरोना के 15,648 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं और 606 लोगों की मौत हो चुकी है।

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस