जागरण संवाददाता, कोलकाता । हावड़ा के बनबिहारी बोस रोड स्थित श्री जैन विद्यालय में 15 से 18 साल के विद्यार्थियों के लिए निशुल्क टीकाकरण शिविर आयोजित किया गया है। चार दिवसीय इस शिविर के पहले दो दिनों में गुरुवार और शुक्रवार को इस स्कूल के लगभग 700 से ज्यादा विद्यार्थियों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई।इनमें पहले दिन 380 विद्यार्थियों को पहली डोज दी गई। स्कूल के शिक्षक प्रतिनिधि संतोष कुमार तिवारी ने बताया कि विद्यालय परिसर में टीकाकरण शिविर चार दिनों तक लगेगा। 20 व 21 के अलावा 22 व 24 जनवरी को यहां टीकाकरण शिविर आयोजित होगा।

उन्होंने बताया कि टीकाकरण को लेकर छात्र-छात्राओं में काफी उत्साह देखा जा रहा है। इस स्कूल में केजी से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई होती है और हावड़ा के प्रमुख स्कूलों में से यह एक है। बताया गया कि नौवीं से 12वीं के बीच इस स्कूल में करीब 2,300 विद्यार्थी हैं, जिन्हें टीका लगाया जाएगा। इनकी उम्र 15 से 18 वर्ष के बीच है। बताते चलें कि पूरे देश में 15 से 18 साल के बच्चों के लिए इस साल तीन जनवरी से ही टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई है। इसके बाद पहली बार इस स्कूल में विद्यार्थियों के लिए टीकाकरण शिविर आयोजित किया गया है। इसको लेकर बच्चों में काफी उत्साह देखा जा रहा है।

साल्टलेक शिक्षा निकेतन में भी छात्रों का टीकाकरण

दूसरी ओर, साल्टलेक शिक्षा निकेतन में भी 15 से 18 साल के छात्रों के लिए टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें लगभग 300 छात्र-छात्राओं को पहली डोज के रूप में कोवैक्सीन दी गई। इस मौके पर विधाननगर नगर निगम एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। साल्टलेक शिक्षा निकेतन की एकेडमिक डायरेक्टर डा रेखा वैश्य ने बताया कि माता-पिता अपने बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर काफी उत्साहित दिखाई दिए। कैंपस में मौजूद कुछ अभिभावकों ने कहा कि बच्चों के वैक्सीनेशन का यह प्रयास सराहनीय है। इससे स्कूल खुलने की संभावना भी बढ़ेगी और बच्चों में पढ़ाई के प्रति उत्साह बढ़ेगा।

आज कैंपस में आकर विद्यार्थियों के चेहरे पर काफी खुशी और उत्साह दिखाई दिया। उल्लेखनीय है कि कोरोना के चलते काफी समय से बच्चे घर में ही रहकर आनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। दीपावली के बाद राज्य में स्कूलों को खोला गया था लेकिन बीच में फिर कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते स्कूलों को बंद कर दिया गया। वहीं, अब फिर से कई जगहों से स्कूलों को फिर से खोलने की मांग की जा रही है। हालांकि राज्य सरकार ने अभी तक स्कूलों को खोलने के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया है। 

Edited By: Priti Jha