कोलकाता, जागरण संवाददाता। अमूमन एक व्यक्ति के हाथों दूसरे को मौत के घाट उतारने को ही भारतीय कानून हत्या की श्रेणी में रखता है, पर महानगरों की सड़कों पर एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में वाहनों के बेलगाम पहियों तले रौंद कर लोगों की मौत आम हत्या से भी ज्यादा विभत्स है।

कोलकाता में सोमवार देर रात एक ऐसी ही वारदात सामने आई है। यहां दो बसों ने एक दूसरे से आगे निकलने की ऐसी होड़ लगाई कि सामने जा रहे एक ही स्कूटी सवार तीन युवकों को बीच में लेकर पीस दिया। घटनास्थल पर ही दो किशोरों की मौत हो गई जबकि तीसरे की हालत गंभीर बनी हुई है। घटना मानिकतल्ला थाना इलाके के उल्टाडांगा मेन रोड पर मूचीबाजार पोस्ट ऑफिस के पास की है।

पुलिस ने बताया कि देर रात 10 बजे के करीब रूट नंबर 215-1 ए और 215 ए की दो बसों ने एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ लगाई थी। इनकी रेस के बीच स्कूटी सवार तीनों युवक फंस गए थे। पीछे बेठे दोनों किशोरों ने रफ्तार के बीच डर से छलांग लगाकर जान बचाने की कोशिश की लेकिन रूट नंबर 215 ए की बस ने दोनों को रौंद दिया जबकि स्कूटी चालक तीसरा युवक दूसरी बस से टकराकर सड़क पर दूर तक जा छिटका।

दोनों मृतकों की पहचान138 एच 8 अरिफ रोड निवासी बिïट्टू सेन (16 वर्ष) और 4-5 उजिर चौधरी रोड निवासी आकाश दत्ता (11 वर्ष) के रूप में हुई है। वहीं स्कूटी चालक 5-8 कैनल ईस्ट रोड निवासी मृणमय परीक्षित (23) आरजीकर अस्पताल में इलाजरत है। घटना के बाद दोनों बसों के चालक व कंडक्टर वाहनों को छोड़कर फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

लोगों ने किया प्रदर्शन

देर रात घटी इस घटना के बाद मौके पर एकत्रित हुए 100-150 लोगों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। हालांकि लोगों ने तोडफ़ोड़ नहीं की लेकिन घंटों तक सड़क जाम कर दिया था। बाद में मौके पर पहुंचे प्रशासन के आला अधिकारियों ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया है।

इलाके का सीसीटीवी फुटेज खंगालकर आरोपित चालकों की तलाश की जा रही है। ज्ञात हो कि कोलकाता को दुर्घटना मुक्त शहर बनाने के लिए कोलकाता पुलिस तरह-तरह से प्रचार-प्रसार कर रही है लेकिन चालकों की मनमानी थमने का नाम नहीं ले रही है। इस महीने अब तक बेलगाम वाहनों की रेस में सात युवक पिसकर अपनी जान गंवा चुके हैं।  

Posted By: Preeti jha