राज्य ब्यूरो, कोलकाताः भर्ती घोटाले को लेकर मुश्किलों से घिरे बंगाल के उद्योग व संसदीय कार्यमंत्री व पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी के विधानसभा क्षेत्र बेहाला पश्चिम में शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस की ओर से जुलूस निकाला गया। दरअसल यह जुलूस पार्थ के समर्थन व सीबीआइ पूछताछ के खिलाफ निकलना था, लेकिन मंत्री ने मना कर दिया और अपनी सरकार की 11 वर्षों की उपलब्धियों को लेकर जुलूस निकालने को कहा। उसी अनुसार जुलूस आयोजित किया गया।

विरोध प्रदर्शन रैली करार देते हुए इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट

इंटरनेट मीडिया पर इस रैली को ‘ विरोध प्रदर्शन का मंच’ करार देते हुए ढेर सारे पोस्ट किए गए हैं। इंटरनेट मीडिया नेटवर्किंग साइटों पर ऐसा पोस्ट करने वालों ने ‘ होक प्रतिवाद (विरोध हो) ’ नाम से पोस्टर साझा किए हैं। चटर्जी ने इस रैली में भाग नहीं लिया और फेसबुक पर लिखा कि कुछ लेागों ने उसे विरोध प्रदर्शन रैली करार देते हुए इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट किया है।

दिन में सैंकड़ों तृणमूल कार्यकर्ता बेहाला पश्चिम में उतरे

मैं सभी से ऐसे पोस्ट तत्काल हटा लेने का अनुरोध करूंगा। आज की रैली मां, माटी, मानुष सरकार के 11 साल का जश्न मनाने के लिए है। कोई अन्य मुद्दा नहीं उठना चाहिए। दिन में सैंकड़ों तृणमूल कार्यकर्ता बेहाला पश्चिम में सड़कों पर उतरे। उनके हाथों में पोस्टर एवं तख्तियां थीं जिन पर ममता बनर्जी सरकार की प्रशंसा की गई थी।

रैली तृणमूल प्रशासन की सफलता की तारीफ के लिए थी

एक तृणमूल नेता ने कहा कि अजंता सिनेमा हाल से बेहाला चौरास्ता तक निकाली गई ‘यह रैली तृणमूल प्रशासन की सफलता की तारीफ के लिए आयोजित की गयी थी। राज्य का हर तृणमूल कार्यकर्ता पार्थ चटर्जी के साथ खड़ा है। विपक्षी दल उनके विरूद्ध दुष्प्रचार कर रहे हैं।’

चटर्जी एवं राज्य शिक्षा मंत्री परेश अधिकारी से पूछताछ की

विपक्षी दल चटर्जी का इस्तीफा मांग रहे हैं जिनके शिक्षा मंत्री रहते हुए सरकारी एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों में भर्ती घोटाला सामने आया। सीबीआइ ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश पर इस घोटाले के सिलसिले में चटर्जी एवं राज्य शिक्षा मंत्री परेश अधिकारी से पूछताछ की है।

Edited By: Vijay Kumar