राज्य ब्यूरो, कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने केंद्र की भाजपा नीत राजग सरकार पर निशाना साधते हुए उससे पड़ोसी देश बांग्लादेश में हो रही सांप्रदायिक हिंसा के संबंध में प्रभावी भूमिका निभाने और मूकदर्शक न बने रहने का आग्रह किया। तृणमूल प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि पार्टी भारत और बांग्लादेश दोनों देशों में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा चाहती है।

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि पड़ोसी देश में सरकार ने स्थिति नियंत्रण में करने को लेकर तुरंत प्रतिक्रिया व्यक्त की है और कहा है कि भारतीय मिशन इस मामले पर बांग्लादेशी अधिकारियों के साथ निकट संपर्क में है। वहीं, तृणमूल कांग्रेस के महासचिव घोष ने बंगाली में ट्वीट किया, बांग्लादेश से कुछ परेशान करने वाली खबरें आ रही हैं। हालांकि शेख हसीना सरकार और उस देश के कई लोग इस तरह के कृत्यों का विरोध कर रहे हैं, लेकिन भारत का प्रधानमंत्री कार्यालय मूकदर्शक क्यों बना हुआ है? केंद्र को एक प्रभावी भूमिका निभानी चाहिए, और भाजपा को इस मामले पर नकली हिंदुत्व का सस्ता नाटक नहीं करना चाहिए।

हम भारत और बांग्लादेश दोनों देशों में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा चाहते हैं। दूसरी ओर, बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और नंदीग्राम से भाजपा विधायक सुवेंदु अधिकारी ने इस्कान के एक ट्वीट को रीट्वीट किया जिसमें उसने कहा कि बांग्लादेश में नोआखाली के उसके परिसर पर हमला किया गया है और एक सदस्य की मौत हो गई है।

उल्लेखनीय है कि बांग्लादेश में उपद्रवियों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों के बीच हुई झड़पों में कम से कम चार लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा कई हिंदू मंदिरों तथा दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ की गई है, जिसके बाद 22 प्रभावित जिलों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हाल में ढाका के ढाकेश्वरी मंदिर में एक कार्यक्रम के दौरान हिंदुओं के साथ अभिवादन का आदान-प्रदान करते हुए कहा था कि सभी अपराधियों को ढूंढकर उन्हें दंडित किया जाएगा। 

Edited By: Priti Jha