राज्य ब्यूरो कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस ने विधायकों के वेतन से पार्टी कोष में जाने वाली राशि दोगुनी कर दी है। 2001 से तृणमूल विधायकों के वेतन से प्रति माह 1,000 रुपये पार्टी फंड में जाते हैं। 2006, 2011 और 2016 के चुनावों के बाद भी उक्त राशि में कोई बदलाव नहीं किया गया था। लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में भारी जीत के बाद तृणमूल परिषदीय दल ने फैसला किया है कि अब से विधायकों को पार्टी फंड में दोगुना भुगतान करना होगा। यानी 2,000 रुपये प्रति माह।

सूत्रों के मुताबिक फैसला लेने के बाद हर विधायक को अलग से सूचना देने का काम भी शुरू हो गया है। हालांकि परिषदीय दल के एक सदस्य ने कहा कि अभी तक विधायकों के वेतन से दोगुनी राशि काटने का काम शुरू नहीं हुआ है। दो मई को विधानसभा के नतीजे घोषित होने के बाद छह और सात मई को विधानसभा में विधायकों ने शपथ ली थी। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते अधिकांश विधायक वेतन के लिए बैंक खाते तक नहीं खोल सके। उन्हें जल्दी से अपने-अपने क्षेत्रों में लौटना पड़ा था।

पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने विधायकों को कोरोना संक्रमण के दौरान क्षेत्र के लोगों के साथ रहने का निर्देश दिया है। उन्होंने क्षेत्र के विधायकों को चक्रवात यास के दौरान राहत और पुनर्वास कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने का भी निर्देश दिया है। हालांकि वे नवगठित विधानसभा के पहले सत्र से पहले खाता खोलने का प्रयास करेंगे।

43 नए विधायकों के वेतन खाते अभी तक नहीं खुले

-राज्य विधानसभा के 212 तृणमूल विधायकों में से (भवानीपुर से शोभनदेव चट्टोपाध्याय के इस्तीफे के बाद से तृणमूल विधायकों की यह संख्या है) 165 के पास वेतन के साथ बैंक खाते हैं। पुराने पांच विधायकों के बैंक खातों में कुछ दिक्कत है। इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस के टिकट से जीतने वाले नए विधायकों की संख्या 43 है। नए विधायकों के वेतन खाते अभी नहीं खोले गए हैं। इसलिए विधायकों को कोरोना संक्रमण की स्थिति थोड़ी सामान्य होते ही बैंक खाता खोलने को कहा जाएगा। उसके बाद पिछले मई से पार्टी फंड के लिए उनके खाते से 2,000 रुपये प्रति माह काट लिए जाएंगे। दूसरे शब्दों में वेतन से पैसा सीधे पार्टी फंड में हर महीने जमा किया जाएगा।

Edited By: Vijay Kumar