राज्य ब्यूरो, कोलकाता : आइआइटी खड़गपुर कैंपस में फोन करते ही अब चिकित्सा सेवा उपलब्ध होगी। कैंपस में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह पहल की गई है। गौरतलब है कि आइआइटी खड़गपुर में गत 19 अगस्त को कोरोना का पहला मामला सामने आया था। अबतक 100 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं।

प्रबंधन कोरोना संक्रमितों को निजी अस्पतालों में भेज रहा

आइआइटी खड़गपुर प्रबंधन कोरोना संक्रमितों को कोलकाता के निजी अस्पतालों में इलाज कराने भेज रहा है। कुछ को खड़गपुर महकमा अस्पताल के सेफ फोन में रखा जा रहा है। बढ़ते मामलों को देखते हुए अब टेलीमेडिसिन चिकित्सा शुरू की गई है, जिसे 'आई मेडीएक्स' नाम दिया गया है। 

ईमेल आइडी बनाकर मोबाइल नंबर पंजीकृत कराना होगा

यह सेवा पाने के लिए मरीज को अपना ईमेल आइडी तैयार कर वहां अपना मोबाइल नंबर पंजीकृत कराना होगा। डॉक्टर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मरीज से बातचीत कर उनके लक्षणों के बारे में पूछेंगे और उसके बाद ईमेल के जरिए दवा की पर्ची भेजेंगे। 

अप्रैल महीने में चार प्रकल्प शुरू करने की योजना बनाई

आइआइटी खड़गपुर के निदेशक डॉ. वीरेंद्र कुमार तिवारी ने बताया-'कोरोना महामारी से निपटने के लिए हमने अप्रैल महीने में चार प्रकल्प शुरू करने की योजना बनाई थी। यह उन्हीं में से एक है। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए चिकित्सा प्रदान करने में यह सेवा प्रभावी है।'

Edited By: Vijay Kumar