जागरण संवाददाता, कोलकाता : दुर्गा पूजा के आगमन के साथ ही शहर की सड़कों पर चहल-पहल आम दिनों की अपेक्षा काफी बढ़ गई है। कहीं पूजा की खरीददारी की भीड़ तो कही लोग पूजा घूमने निकले हैं। यही वजह है कि शहर में हर जगह लोगों का हुजूम देखने को मिल रहा है। इस बीच उत्तर कोलकाता के अति व्यस्ततम सेतु में शुमार टाला ब्रिज पर रविवार से बसों का आवागमन बंद होने पर सप्ताह के पहले दिन ट्रैफिक बुरी तरह चरमरा गई। इससे यात्रियों को खासा दिक्कतें पेश आई। आलम यह था कि लोगों को घंटों बस में ही गुजारनी पड़ी। जानकारी के मुताबिक बीटी रोड पर वाहन की संख्या कम होने की वजह यहां तो ट्रैफिक सुचारू थी लेकिन टाला ब्रिज से गुजरने वाले वाहनों को वैकल्पिक रूट से बसों को लाने के क्रम में भारी जाम की स्थिति देखने को मिली। इस क्रम में बेलगछिया ब्रिज-आरजीकर रोड वैकल्पिक रूट पर यात्रियों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ा। वही इस स्थिति से निपटने के लिए हर मोड़ पर मौजूद ट्रैफिक पुलिस के पसीने छूट गए। जानकारी के मुताबिक दुर्गा पूजा के दौरान ब्रिज से भारी वाहनों के आवाजाही विशेषकर बसों के आवागमन पर रोक लगने से उत्तर कोलकाता में ट्रैफिक व्यवस्था स्तब्ध हो गई। हालांकि इससे निपटने के लिए वैकल्पिक रूट भी तैयार किया गया था लेकिन वहां भी जाम की स्थिति जस की तस बनी रही। सोमवार को टाला ब्रिज बंद होने से दमदम, चिड़ियामोड़ से नागेरबाजार, लेकटाउन से होते हुए आरजी कर रोड रूट, श्यामबाजार, बेलगछिया और काशीपुर रोड में लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। बता दें कि सेतु के जर्जर हालत को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में हुई उच्च स्तरीय बैठक में स्वास्थ्य परीक्षण के लिए टाला ब्रिज पर भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई थी। वहीं दूसरी ओर कोलकाता के पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा टाला ब्रिज का परिदर्शन करने पहुंचे थे, जहा उन्होंने ब्रिज बंद होने से आने वाली समस्याओं की समीक्षा की थी। परिदर्शन के बाद पुलिस आयुक्त ने कहा था कि टाला ब्रिज की जर्जर स्थिति को देखते हुए यहा बड़े वाहनों के आवागमन पर रोक लगाई गई है। उल्लेखनीय है कि बुधवार को सेतु विशेषज्ञ संस्था राइट्स, गार्डनरीच शिप बिल्डर्स और रेलवे प्रबंधन ने टाला ब्रिज को जर्जर करार देते हुए उसे खतरनाक बताया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप