राज्य ब्यूरो, कोलकाता : केंद्र सरकार द्वारा गणतंत्र दिवस परेड के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी बंगाल सरकार की झांकी को अस्वीकार किए जाने के बाद मचे सियासी घमासान के बीच अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुक्रवार को दिल्ली के इंडिया गेट पर नेताजी की भव्य मूर्ति स्थापित करने की घोषणा के बाद फिर सियासत शुरू हो गई है। पीएम मोदी के इस एलान के बाद बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने केंद्र सरकार पर नेताजी को सामने रखकर बंगाल की अनदेखी करने का आरोप लगाया।

तृणमूल कांग्रेस के प्रदेश महासचिव व प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति कहीं भी लगाई जाए हम इसका स्वागत करते हैं लेकिन नेताजी के असली सम्मान के लिए जो होना चाहिए वह नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड में नेताजी से जुड़ी झांकी को शामिल न कर बंगाल का आपमान किया गया है। अब नेताजी की मूर्ति को सामने रखकर इस मुद्दे से ध्यान भटकाकर बंगाल की अनदेखी की जा रही है। घोष ने पीएम मोदी से नेताजी के रहस्यों से पर्दा उठाने की भी मांग की।

उन्होंने कहा कि देश जानना चाहता है कि आखिर इस धरती के महान सपूत नेताजी का क्या हुआ। उन्होंने जोर देकर कहा कि पीएम मोदी को इस रहस्य के बारे में देश को बताना चाहिए। बताते चलें कि हाल में केंद्र सरकार द्वारा नेताजी से संबंधित बंगाल सरकार की झांकी को खारिज किए जाने के बाद इस मुद्दे पर जमकर राजनीति हो रही है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसका कड़ा विरोध करते हुए पीएम को हाल में पत्र भी लिखा था और नाराजगी जताते हुए इस फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की है। हालांकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ममता को पत्र लिखकर सूचित किया कि इस तरह की झांकी पिछले साल ही गणतंत्र दिवस परेड में प्रदर्शित की जा चुकी है इसीलिए इस बार शामिल नहीं किया गया।

उन्होंने दावा किया कि केंद्र सरकार नेताजी का पूरा सम्मान करती है और इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह 23 जनवरी को नेताजी की जयंती से ही शुरू करने का फैसला किया है। इस बीच प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को इंडिया गेट पर नेताजी जी भव्य मूर्ति स्थापित करने की घोषणा की। पीएम ने ट्वीट कर जानकारी दी कि इसी

23 जनवरी को नेताजी की 125वी जयंती पर ग्रेनाइट की इस मूर्ति का अनावरण किया जाएगा।

बता दें कि नेताजी की यह प्रतिमा 28 फीट ऊंची और छह फीट चौड़ी होगी। इंडिया गेट पर चार खंभे वाले मंडप में जहां पहले किंग जार्ज पंचम की प्रतिमा लगी हुई थी, जिसे 1968 में हटाया दिया गया था, इसी मंडप में नेताजी की प्रतिमा लगाई जाएगी।

Edited By: Vijay Kumar