जागरण संवाददाता, कोलकाता : राज्य के परिवहन मंत्री शुभेंदू अधिकारी ने मंगलवार को राज्य परिवहन भवन (2) में निजी बस मालिकों संग बैठक कर उनकी समस्याएं सुनी। इस दौरान बैठक में शामिल हुए तमाम बस सिंडीकेट के पदाधिकारियों ने अपनी समस्याओं से परिवहन मंत्री को अवगत कराया व कहा कि माझेरहाट व टाला ब्रिज रूट के बंद होने से उन्हें खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं वैकल्पिक मार्ग से वाहन संचालन में अतिरिक्त तेल खर्च बढ़ने से भी वे चिंतित है। इधर, रूट प्रतिनिधियों की मौजूदगी में परिवहन मंत्री ने पेश आ रही समस्याओं पर संज्ञान लेते हुए समाधान का आश्वासन दिया और कहा कि अगर आगे किसी भी प्रकार की दिक्कतें होती है तो वे सीधे अपनी समस्याओं से उन्हें अवगत करा सकते हैं। इस दौरान परिवहन विभाग के सभी आलाधिकारियों के साथ ही निर्धारित रूट के प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे। बैठक के बाद मीडिया कर्मियों से मुखातिब हुए परिवहन मंत्री ने कहा कि यातायात सहूलियत व वाहन मालिकों को पेश आ रही दिक्कतों के समाधान की दिशा में हर संभव कोशिश की जा रही है, ताकि आगे किसी प्रकार की समस्या न हो। इसके अलावा वैकल्पिक रूट पर वाहन संचालन को सुचारू करने को लेकर बस मालिकों व सिंडीकेट के प्रतिनिधियों को बुलाया गया था और सभी ने अपनी समस्याओं से उन्हें अवगत कराया है। बैठक में रूट प्रतिनिधि के रूप में 221, 234, ,201, 34बी, 30बी, 43, 32ए के साथ ही अन्य के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इधर, ज्वाइंट काउंसिल ऑफ बस सिंडीकेट के महासचिव तपन बनर्जी ने कहा कि रूट परिवर्तन के बाद बसों के संचालन में आ रही दिक्कतों से परिवहन मंत्री को अवगत कराया गया है। उन्होंने कहा कि बैठक में परिवहन के विभाग के आलाधिकारियों के साथ ही रूट प्रतिनिधियों की मौजूदगी में मंत्री ने कहा कि आगे उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। वहीं मिनी बस ऑपरेर्टस को-ऑर्डिनेशन कमेटी के महासचिव प्रदीप नारायण बोस ने बताया कि टाला ब्रिज पर बसों की आवाजाही रोकने जाने से बसों को लंबे रूट से होकर गुजरना पड़ रहा है। जिससे तेल खर्च में खासा बढ़ोतरी हुई है और इससे परिवहन मंत्री को अवगत कराया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप