कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कोरोना का देश की शिक्षा पर गहरा असर पड़ा है। अनलॉक होने के बावजूद स्कूलों में पढ़ाई अभी लॉक ही है। एक तरफ जहां ऑनलाइन पढ़ाई का नया दौर शुरू हो गया है, वहीं कोरोना काल में कई अभिभावकों की आर्थिक स्थिति बिगड़ने से वे निजी स्कूलों की फीस भर पाने में असमर्थ हैं। कोरोना संकट के दौर में शैक्षणिक संस्थानों के आगे जो चुनौती है उसमें ऑनलाइन एक स्वाभाविक विकल्प है।

इसी बीच डिवाइन फाउंडेशन एंड चैरिटेबल ट्रस्ट ने छात्रों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए एक विशेष मोबाइल ऐप लांच किया है। इस ऐप का नाम विद्यांग ऐप है। जिसके जरिए संपूर्ण पेपरलेस यानी की ऑनलाइन और वर्चुअल स्कूलिंग होगी। इस ऐप को यह ध्यान देकर बनाया गया है जिसके जरिए स्कूल, छात्र और अभिभावक एक छत के नीचे आ सके।

डिवाइन फाउंडेशन एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष दीपांकर राय ने बताया कि एप्लिकेशन की खासियत यह है कि इसमें क्लास मैनेजमेंट सहित स्कूल प्रबंधन प्रणाली, प्रशिक्षण मैनेजमेंट, बैच शेड्यूल, प्रशिक्षण रोस्टर, ऑनलाइन टेस्ट और असाइनमेंट समेत कई सुविधाएं मिलने वाली हैं। यह क्लास के लिए सभी रिपोर्ट जनरेट करेगा।

उन्होंने बताया कि यदि कोई शिक्षक समय से कक्षा में नहीं पहुंच पा रहा है तो स्कूल प्रबंधन को इसकी सूचना प्राप्त हो जाएगी। यहां स्कूल की फीस भुगतान के लिए अभिभावकों को सूचना भी प्राप्त होगी। इतना ही नहीं यदि अभिभावक समय पर शुल्क जमा नहीं कर पाते हैं तो ऐप उन्हें एक विशेष समय पर याद भी दिलाएगा।

विद्यांग ऐप में छात्रों, अभिभावकों और स्कूल प्रबंधन के लिए अलग-अलग सेक्शन बनाए गए हैं। एक तरफ जहां स्कूल प्रबंधन के दिशा-निर्देशों को जान सकेंगे। वहीं स्कूल, छात्र और अभिभावकों को भी सुविधा होगी। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस