राज्य ब्यूरो, कोलकाता : एशिया के सबसे बड़े रेडलाइट एरिया सोनागाछी की यौन कर्मी 'ड्राफ्ट ट्रैफिकिंग इन पर्संस (प्रीवेंशन, केयर एंड रिहैबिलिटेशन) बिल 2021' के खिलाफ अब दिल्ली में आंदोलन करने की तैयारी कर रही हैं। यौन कर्मी के संगठन दुर्बार महिला समन्वय कमेटी की अधिकारी महाश्वेता मुखर्जी ने बताया कि इस बिल के प्रभावी होने से यौन पेशा खत्म हो जाएगा। सोनागाछी इलाका प्रमोटरों के हाथों में चला जाएगा और यहां शॉपिंग मॉल का निर्माण हो जाएगा।'

महाश्वेता ने आगे कहा कि दुर्बार इस बाबत विरोधी दलों के सांसदों से भी बातचीत कर रहा है। दुर्बार की सचिव काजल बोस ने कहा-'नारी तस्करी व यौन पेशा भिन्न चीजें हैं। इस बिल में दोनों को एक समान बताया गया है।

महिलाओं की तस्करी कर उन्हें जबरन देह व्यापार में धकेले जाने के हम भी खिलाफ हैं लेकिन जो महिलाएं अपना परिवार चलाने के लिए अपनी मर्जी से यौन पेशे को अपना रही हैं, उन्हें रोका नहीं जाना चाहिए। यह उनके जीने के अधिकार के खिलाफ है।'

काजल ने आगे कहा-'इस बिल को तैयार करने में दो साल का वक्त लग गया जबकि इस पर अपनी राय देने के लिए हमें बस दो हफ्ते ही दिए गए। यह बिल हमपर थोपने की कोशिश की जा रही है, जिसका हम प्रतिवाद करेंगे। देशभर में यौन कर्मी के करीब 80 संगठन हैं, जिनसे ढाई लाख से ज्यादा यौन कर्मी जुडी़ हुई हैं।'

बंगाल में दुर्बार से 65,000 यौन कर्मी पंजीकृत हैं। सबको साथ लेकर आंदोलन किया जाएगा।' काजल ने कहा कि इस मामले में हस्तक्षेप के लिए हम जल्द ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी मुलाकात करेंगे।'

Edited By: Vijay Kumar