राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में उपचुनाव हो रहे हैं। यहां की भवानीपुर हाटसीट है, क्योंकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का यहां आवास है और चुनाव भी लड़ रही हैं। भाजपा और तृणमूल के बीच कांटे की टक्कर है। ऐसे में दोनों पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच प्रचार के अंतिम दिन झड़प हो गई। सोमवार को प्रचार के आखिरी दिन भाजपा और तृणमूल के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई। हालांकि दोनों ही पार्टी के कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे पर हमले के आरोप लगाए।

भाजपा का आरोप है कि उनके नेता और कार्यकर्ता भवानीपुर में प्रचार कर रहे थे इसी दौरान तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने उनके साथ धक्का-मुक्की की। यहां तक कि भाजपा के दो सांसदों के साथ भी दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद दिलीप घोष और सांसद अर्जुन सिंह के साथ धक्कामुक्की की गई। घोष ने कहा कि हमारे एक कार्यकर्ता का सिर फोड़ दिया गया है।

भाजपा सांसद दिलीप घोष ने कहा कि लड़ाई तगड़ी है। तृणमूल कांग्रेस डरी हुई है इसलिए वह हाथापाई कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारे सांसद अर्जुन सिंह प्रचार कर रहे थे। तृणमूल के कुछ लोग उनके पीछे लग गए। गो बैक के नारे लगाए। उनके साथ धक्का-मुक्की की और मोहल्ले से बाहर निकाल दिया। धक्का-मुक्की का वीडियो पोस्ट करते हुए भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि अगर ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी को भवानीपुर उपचुनाव एक लाख के अंतर से जीतने का इतना भरोसा है तो फिर क्षेत्र में इस तरह की गुंडागर्दी क्यों हो रही है? बंगाल भाजपा नेताओं का घेराव किया जा रहा है। क्यों? क्या उन्हें भवानीपुर में भी नंदीग्राम दोहराने का डर है?

दिलीप घोष ने कहा कि तृणमूल के लोग भाजपा का जमानत जब्त होना बता रहे थे। आज ममता बनर्जी का पूरा मंत्रिमंडल भवानीपुर में लगा है। मंत्री सड़क पर डेरा जमाए हैं। उन्होंने कहा कि हम लड़ने वाले लोग हैं। हम डोर टू डोर लोगों तक पहुंच रहे हैं। अत्याचार, हिंसा और तानाशाह के खिलाफ भाजपा वोट मांग रही है।

दिलीप ने तृणमूल कांग्रेस पर आरोप लगाया कि उन्होंने बंगाल की इमेज आतंकवाद की बना दी है। यह छवि हो गई है कि यहां कटमनी, सिंडीकेट चलता है। भ्रष्टाचर चरम पर है। लोग यहां एक बार आने के बाद फिर से आने पर डरते हैं। बीजेपी के आइटी सेल के इंचार्ज अमित मालवीय ने कहा कि भवानीपुर में भाजपा की व्यापक पहुंच ने तृणमूल को बेचैन कर दिया है। नेताओं को प्रचार करने से रोकने की कोशिश की जा रही है। लेकिन वे कितने लोगों को रोक पाएंगे? भाजपा के नेता क्षेत्र के कोने-कोने में फैले हुए हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि जनता बड़ी संख्या में भाजपा को समर्थन के लिए तैयार है।

Edited By: Priti Jha