जागरण संवाददाता, हावड़ा। कोरोना वायरस को लेकर देशव्यापी लाकडाउन के मद्देनजर रेल मंत्रालय के खाद्य वितरण कार्यक्रम के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए पूर्व रेलवे की ओर से पिछले कई दिनों से हावड़ा स्टेशन के ओल्ड कंपलेक्स के बाहर सैकड़ों बेघर व जरूरतमंद लोगों में भोजन का वितरण किया जा रहा है। गुरुवार को भी करीब 200 लोगों को यहां भोजन कराया गया। अधिकारियों ने बताया कि 28 मार्च से 2 अप्रैल यानी गुरुवार तक हावड़ा स्टेशन के पास 2,600 से ज्यादा जरूरतमंद व बेसहारा लोगों को भोजन कराया जा चुका है। 

हावड़ा के डीआरएम इशाक खान और सीनियर डीसीएम राजीव रंजन के निर्देशन में आइआरसीटीसी के सहयोग से सीनियर डीएससी (हावड़ा) रजनीश कुमार त्रिपाठी के नेतृत्व में आरपीएफ कर्मियों द्वारा जरूरतमंदों में भोजन वितरण सफलतापूर्वक किया जा रहा है। इस दौरान सोशल डिस्टेंशिंग से लेकर स्वच्छता नियमों का पूरा पालन किया जा रहा है। भोजन वितरण में आरपीएफ के हावड़ा नॉर्थ पोस्ट कमांडर इंस्पेक्टर एमडी भूटिया सहित अन्य अधिकारियों व कर्मियों का सक्रिय योगदान है। बताया गया कि हावड़ा स्टेशन के पास गुरुद्वारे में भी रोजाना 150 से 200 जरूरतमंद लोगों के लिए एनजीओ के मार्फत रेलवे की ओर से भोजन भिजवाया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि भोजन वितरण का यह कार्यक्रम आगे भी जारी रहेगा।

निःशुल्क राशन वितरण में दूसरे दिन भी अव्यवस्था

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर जारी लॉकडाउन के बीच बुधवार से पूरे बंगाल में बीपीएल व गरीब परिवारों के बीच शुरू निःशुल्क राशन वितरण में दूसरे दिन भी अव्यवस्था दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए गुरुवार को भी राज्यभर के राशन दुकानों में सुबह से ही मुफ्त राशन लेने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुट गई। तड़के सुबह से ही राशन दुकानों के बाहर लंबी- लंबी कतारें लग गई। खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिया मलिक की अपील व आश्वासन के बावजूद मुफ्त राशन लेने के लिए लोगों में होड़ दिखी। इसको लेकर गुरुवार को भी मुर्शिदाबाद, मालदा, पुरुलिया, उत्तर व दक्षिण 24 परगना सहित अन्य जिलों में बवाल देखने को मिला। मुफ्त राशन लेने के लिए हर जगह अफरा -तफरी देखी गई। 

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस