कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल में अब मतांतरण का मुद्दा उठा है। बंगाल भाजपा ने ममता बनर्जी की सरकार पर मतांतरण के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने आरोप लगाया है कि मालदा जिले के कालियाचक थाने के प्रभारी इलाके के कुछ गरीब हिंदू परिवारों पर मतांतरण का दबाव बना रहे हैं।

भाजपा नेता ने ट्वीट किया कि आइसी के दबाव के विरोध में महिलाएं व बच्चे प्रदर्शन कर रहे हैं। उनके परिवार के पुरुष सदस्यों को गिरफ्तार कर उनका मतांतरण का दबाव डाला जा रहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पहले भी क्षेत्र में दो हिंदुओं का जबरन मतांतरण कराया गया था। मालदा में महिला और बच्चों ने मतांतरण के खिलाफ प्रदर्शन किया। बता दें कि बंगाल के सीमावर्ती इलाके में लगातार मुस्लिमों की संख्या बढ़ रही है और हिंदुओं की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। इसे लेकर बंगाल भाजपा ने अब मुद्दा बनाना शुरू किया है।

आरोपित पुलिस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग :

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने ट्वीट किया, संविधान में भारत के प्रत्येक नागरिक को धर्म की स्वतंत्रता दी गई है। उस स्वतंत्रता की रक्षा करना राज्य की जिम्मेदारी है, एक सरकारी पुलिस अधिकारी किसी को मतांतरण के लिए कैसे मजबूर कर सकता है। यह दंडनीय अपराध है। सुकांत मजूमदार ने कहा कि बंगाल में रोजगार, उद्योग, सुशासन नहीं है। ना ही बोलने की आजादी है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने मांग की है कि सरकार बंगाल में हिंदू समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करे। उन्होंने यह भी मांग की कि प्रशासन इन परिवारों के आरोपों को गंभीरता से ले और दोषी पाए जाने पर आरोपित पुलिस अधिकारी को बर्खास्त किया जाए नहीं तो भाजपा आंदोलन के लिए मजबूर होगी।

जुलूस पर हमला बोलने का आरोप

नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने रविवार को आरोप लगाया कि मुर्शिदाबाद जिले के बेलडांगा थानांतर्गत कालिताला गांव में हरिनाम संकीर्तन यात्रा निकाल रही महिलाओं पर पुलिस की मौजूदगी में हमला किया गया। उन्होंने कहा कि संकीर्तन की पुलिस से अनुमति ली गई थी। उन्होंने राज्यपाल से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि हमला करने वाले अपराधियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जाए।

Edited By: Sumita Jaiswal