कोलकाता, राज्य ब्यूरो। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के मौके पर आयोजित कई कार्यक्रमों उद्घाटन करने व इसमें हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता में हैं। प्रधानमंत्री विक्टोरिया मेमोरियल पहुंच गए हैं। इस दौरान उनके साथ सीएम ममता बनर्जी और राज्यपाल धनखड़ भी मौजूद हैं। पीएम मोदी मेमोरियल हॉल में कुछ ही देर में 'पराक्रम दिवस' समारोह के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता की। इस दिन सिर्फ कार्यक्रम ही नहीं बल्कि विक्टोरिया मेमोरियल में दो नए गैलरी का भी पीएम उद्घाटन किया। एक गैलरी नेताजी को लेकर तैयार किया गया है, जिसका नाम निर्भीक सुभाष रखा गया है। दूसरी गैलरी देश के अन्य स्वतंत्रता आंदोलनकारियों को लेकर तैयार की गई है जिसका नाम विप्लवी भारत रखा गया है।

इस अवसर पर पीएम मोदी एक स्थायी प्रदर्शनी और नेताजी पर एक प्रोजेक्शन मैपिंग शो का भी उद्घाटन पीएम मोदी ने किया। प्रधानमंत्री नेताजी की चिट्ठियों से जुड़ी एक किताब का भी विमोचन किया। पीएम द्वारा एक स्मारक सिक्का और डाक टिकट भी जारी किया गया। नेताजी की थीम पर आधारित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम 'आमरा नूतन जिबनेरी' भी आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम से पहले प्रधानमंत्री मोदी कोलकाता में ही नेशनल लाइब्रेरी (राष्ट्रीय पुस्तकालय) का भी दौरा किया। यहां एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन '21वीं सदी में नेताजी सुभाष की विरासत का फिर से दौरा' सहित कई कार्यक्रमों और एक आर्ट गैलरी व चित्र प्रदर्शनी का पीएम उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कलाकारों और सम्मेलन के प्रतिभागियों के साथ बातचीत भी की।

Parakram Diwas 2021 LIVE UPDATES:

- पीएम मोदी ने कहा, आज हर भारतीय अपने दिल पर हाथ रखे, नेताजी सुभाष को महसूस करे, तो उसे फिर ये सवाल सुनाई देगा। क्या मेरा एक काम कर सकते हो? ये काम, ये काज, ये लक्ष्य आज भारत को आत्मनिर्भर बनाने का है। देश का जन-जन, देश का हर क्षेत्र, देश का हर व्यक्ति इससे जुड़ा है। 

- पीएम मोदी ने कहा, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, गरीबी को, अशिक्षा को, बीमारी को, देश की सबसे बड़ी समस्याओं में गिनते थे। हमारी सबसे बड़ी समस्या गरीबी, अशिक्षा, बीमारी और वैज्ञानिक उत्पादन की कमी है। इन समस्याओं के समाधान के लिए समाज को मिलकर जुटना होगा, मिलकर प्रयास करना होगा। 

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज हर भारतीय अपने दिल पर हाथ रखे, नेताजी सुभाष को महसूस करे, तो उसे फिर ये सवाल सुनाई देगा। क्या मेरा एक काम कर सकते हो? ये काम, ये काज, ये लक्ष्य आज भारत को आत्मनिर्भर बनाने का है। देश का जन-जन, देश का हर क्षेत्र, देश का हर व्यक्ति इससे जुड़ा है।

- पीएम मोदी ने कहा कि ये मेरा सौभाग्य है कि 2018 में हमने अंडमान के द्वीप का नाम नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप रखा। देश की भावना को समझते हुए, नेताजी से जुड़ी फाइलें भी हमारी ही सरकार ने सार्वजनिक कीं। ये हमारी ही सरकार का सौभाग्य रहा जो 26 जनवरी की परेड के दौरान INA Veterans परेड में शामिल हुए।

- पीएम मोदी ने कहा कि देश ने ये तय किया है कि अब हर साल हम नेताजी की जयंती, यानी 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाया करेंगे। हमारे नेताजी भारत के पराक्रम की प्रतिमूर्ति भी हैं और प्रेरणा भी हैं।

- पीएम मोदी ने कहा कि मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूं। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूं।

- विक्टोरिया महल में संबोधन में के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज के ही दिन माँ भारती की गोद में उस वीर सपूत ने जन्म लिया था, जिसने आज़ाद भारत के सपने को नई दिशा दी थी। आज के ही दिन ग़ुलामी के अंधेरे में वो चेतना फूटी थी, जिसने दुनिया की सबसे बड़ी सत्ता के सामने खड़े होकर कहा था, मैं तुमसे आज़ादी मांगूंगा नहीं, छीन लूँगा।

- नारेबाजी से नाराज ममता बनर्जी ने बोलने से किया इंकार, कहा- किसी को बुलाकर बेइज्‍जत करना ठीक नहीं

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में पहुंचे हुए हैं। इस दौरान उनके साथ सूबे की मुखिया ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनकड़ भी मौजूद हैं।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता की नेशनल लाइब्रेरी पहुंचे हुए हैं। यहां वो आर्टिस्ट और डेलीगेट्स से बातचीत कर रहे हैं।

- नेताजी की बहादुरी और आदर्श हर भारतीय को प्रेरित करती है। भारत में उनका योगदान अमिट है। भारत महान नेताजी सुभाष चंद्र बोस के समक्ष झुकता है। PM नरेंद्र मोदी ने अपनी कोलकाता यात्रा और पराक्रम दिवस के  कार्यक्रमों की शुरुआत नेताजी भवन में नेताजी बोस को श्रद्धांजलि देकर की। 

- सुभाष चंद्र बोस की जयंती को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोलकाता दौरे पर हैं। उन्होंने यहां नेता जी भवन का दौरा किया। 

गौरतलब है कि राष्ट्र के प्रति नेताजी की अदम्य भावना और निस्वार्थ सेवा को सम्मान देने और याद रखने के लिए, भारत सरकार ने हर साल 23 जनवरी को 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाने का फैसला किया है।पीएम मोदी ने बोस की 125वीं सालगिरह मनाने के लिए सालभर कार्यक्रमों के आयोजन करने एक 85 सदस्यीय हाईलेवल कमेटी भी पहले ही गठित की है।खास बात है कि इस साल अप्रैल-मई में बंगाल में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसके लिए भारतीय जनता पार्टी महीनों पहले से ही राज्य में काफी सक्रिय नजर आ रही है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कई बार बंगाल का दौरा कर चुके हैं। ऐसे में पीएम मोदी के बंगाल पहुंचने से राज्य में सियासी हलचल तेज होगी।

पीएम के दौरे को लेकर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम

इधर, प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर एक दिन पहले से ही उनके कार्यक्रम स्थल राष्ट्रीय पुस्तकालय और विक्टोरिया मेमोरियल के इर्द- गिर्द सुरक्षा काफी बढ़ा दी गई है। केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने दक्षिण कोलकाता स्थित राष्ट्रीय पुस्तकालय परिसर और विक्टोरिया मेमोरियल को एक तरह से किले में तब्दील कर दिया है। सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद बनाए रखने और निगरानी के लिए लगभग 2000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा। प्रधानमंत्री के निजी सुरक्षा दल(एसपीजी) पहले ही कोलकाता पहुंच चुके हैं और पीएम के कार्यक्रम स्थलों की सुरक्षा संभाल लिया है।

नेताजी जयंती पर ममता भी निकालेंगी विशाल पदयात्रा

दूसरी ओर, नेताजी की 125वीं जयंती पर शनिवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी कोलकाता के श्याम बाजार फाइव प्वाइंट स्थित नेताजी मूर्ति से रेड रोड तक एक विशाल पदयात्रा का नेतृत्व करेंगी। यह पदयात्रा श्यामबाजार से दोपहर 12 बजे निकाली जाएगी। ममता ने पहले ही घोषणा कर दिया है कि नेताजी जयंती को उनकी सरकार और पार्टी देशनायक दिवस के रूप में मनाएगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप