राज्य ब्यूरो, कोलकाता। Coronavirus. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोगों से पांच अप्रैल को नौ मिनट के लिए लाइट ऑफ कर लेने की अपील के मद्देनजर पश्चिम बंगाल विद्युत विभाग ने बिजली खपत में उतार-चढ़ाव के कारण ग्रिड के फेल होने की आशंका से बैकअप आपूर्ति व्यवस्था तैयार करने का निर्णय लिया है। मोदी ने शुक्रवार को लोगों से कोरोना वायरस को हराने के सामूहिक निश्चय को प्रकट करने के लिए पांच अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए अपने घरों की लाइट ऑफ करके दीये, मोमबत्तियां और मोबाइल फोन जलाने की अपील की थी।

पश्चिम बंगाल के विद्युत मंत्री शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने कहा कि मेरी अपने अधिकरियों एवं इंजीनियरों से बातचीत हुई थी। हमारा विभाग इस कार्यक्रम के मद्देनजर किसी भी परिस्थित से निपटने के लिए बैकअप पावर आपूर्ति श्रृंखला को तैयार रखने के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि वैसे तो विद्युत तंत्र नेशनल ग्रिड से जुड़ा है और एक ही समय विद्युत खपत में विसंगति से फेल हो सकता है, लेकिन हमारे पास बैक अप व्यवस्था है जिसे सक्रिय कर दिया गया जाएगा ताकि कोई मुश्किल न हो।

एक अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन के चलते ज्यादातर उद्योग, मिलें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हैं तथा बिजली की मांग बहुत घट गयी है। उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त बिजली आपूर्ति है जो ग्रिड के ठप्प होने की स्थिति में बैकअप क्षमता के रूप में उपयोगी होगी।

प्रधानमंत्री ने अपील की है कि रविवार को रात नौ बजे घर की रोशनी बंद कर नौ मिनट के लिए बालकनी में मोमबत्ती, दीया, टार्च या मोबाइल का फ्लैश जलाएं, जो कोरोना के अंधकार के खिलाफ जंग का भी द्योतक होगा और देश का मनोबल भी बढ़ाएगा। कोरोना के खिलाफ पूरी जंग समाज के स्तर पर ही लड़ी जानी है। प्रधानमंत्री बार-बार इसकी याद दिला रहे हैं और साथ ही शारीरिक दूरी बनाए रखने का मंत्र भी दोहरा रहे हैं। एक दिन पहले ही उन्होंने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा में भी इसकी बात की थी और चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन से बाहर आने पर सुझाव मांगा था। संकेत साफ है कि ऐसे इलाके जो कोरोना के लिए हॉटस्पॉट बनते जा रहे हैं, उनके लिए लॉकडाउन बढ़ भी सकता है।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस