जागरण संवाददाता, कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के महासचिव व राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि बंगाल में भाजपा कोई मुद्दा ही नहीं है। तृणमूल भवन में पत्रकारों से मुखातिब पार्थ ने भाजपा नेता मुकुल राय पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा कि जो खुद कचरा है, उसके सहारे कीचड़ उछालने से कोई राजनीतिक नफा-नुकसान नहीं होने वाला। हालिया चुनाव के नतीजे इसे प्रमाणित कर रहे हैं। पार्थ ने कोलकाता पुलिस द्वारा राज्य में शस्त्र जुलूस लेकर भाजपा की आपत्ति पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राज्य में जिनपर कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी है, वे इसका पालन करेंगे। इतना भय किस बात का है? क्या लाठी और अस्त्र से ही राजनीति करनी होगी, इसके बगैर राजनीति नहीं होती? अस्त्र का प्रदर्शन ही करना है तो सर्कस में जाकर करना चाहिए। वे तो सिर्फ इसी तरह के विचारों के सहारे राजनीति में जीवित हैं। मालूम हो कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने पुलिस के इस फैसले पर कड़ा एतराज जताया था।

वहीं, इस दिन पार्थ चटर्जी ने तीन लोगों को तृणमूल का झंडा थमाया। इस दिन कर्नल दीप्तांशु चौधरी ने तृणमूल का दामन थामा। वे इससे पहले भाजपा के टिकट पर आसनसोल से चुनाव लड़े थे, हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। पार्थ ने बताया कि चौधरी भाजपा के बुद्धिजीवी सेल के संयोजक भी रहे हैं सूचना प्रोद्यौगिकी मे भी काफी दक्ष माने जाते हैं। इस दिन सुपर्ण मैत्रा ने भी तृणमूल का दामन थामा। वे कई वाणिज्यिक मंडलों के क्षेत्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। इसके अलावा कांचरापाड़ा से कांग्रेस नेता रहे मृणाल सिंह राय की बहन सोनाली सिंह राय भी तृणमूल में शामिल हुई। पार्थ ने कहा कि उक्त सभी लोगों को पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी के निर्देश पर पार्टी में शामिल किया गया है।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट