जागरण संवाददाता, कोलकाता : काग्रेस के वरिष्ठ नेता बीके हरिप्रसाद ने शुक्रवार को केंद्र की मोदी सरकार पर नोटबंदी के मनमाने और विनाशकारी निर्णय से देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने का आरोप लगाया। हरिप्रसाद ने कहा कि सरकार इस तथ्य को पूरी तरह से खारिज कर रही है कि अर्थव्यवस्था खराब हालत में है। काग्रेस नेता ने नोटबंदी के उद्देश्य पर सवाल उठाया क्योंकि यह अपने उद्देश्यों को पूरा करने में असफल रही, जिसमें कश्मीर में आतंकवाद समाप्त करना और कालाधन सामने लाना शामिल था। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था नीचे की ओर जा रही है और इसके पीछे प्रमुख कारणों में नोटबंदी का निर्णय शामिल है। इसने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया। काग्रेस सासद ने नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर कोलकाता में आयोजित एक प्रदर्शन में कहा कि निर्णय का भारतीय अर्थव्यवस्था पर गहरा प्रभाव पड़ा है। इसमें ग्रामीण अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने से लेकर बेरोजगारी लाना, औद्योगिक स्टार्टअप बर्बाद करना शामिल है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी के दौरान जो उद्देश्य सूचीबद्ध किए गए थे, उनमें से एक की भी पूर्ति नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कालेधन का पता लगाने से लेकर भ्रष्टाचार से मुकाबला, कश्मीर में आतंकवाद का ढाचा नष्ट करना, इनमें से किसी भी उद्देश्य की पूर्ति नहीं हुई है। आगे उन्होंने कहा कि इस निर्णय ने भारतीय अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी, कई जानें चली गई, लाखों छोटे व्यापार बंद हो गए और लाखों भारतीय बेरोजगार हो गए। हरिप्रसाद ने देश की अर्थव्यवस्था को पूर्व की स्थिति में लाने में असफल रहने को केंद्र की आलोचना की। उन्होंने कहा कि नरमी को लेकर विचित्र बात यह है कि केंद्र आर्थिक नरमी को पूरी तरह से नकार रहा है। दरअसल, शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस की ओर से नोटबंदी के निर्णय के खिलाफ कोल इंडिया कार्यालय से मध्य कोलकाता में आरबीआइ कार्यालय तक एक विरोध मार्च निकाला।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस